लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव-2019: बीजेपी और आरएलटीपी का गठबंधन, ऐसे बनी बात...

Babulal Dhayal | News18 Rajasthan
Updated: April 5, 2019, 4:56 PM IST
लोकसभा चुनाव-2019: बीजेपी और आरएलटीपी का गठबंधन, ऐसे बनी बात...
फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी और आरएलटीपी का गठबंधन होने के पीछे कई कारण रहे हैं. बीजेपी की नागौर में मजबूत जाट चेहरे की जरूरत और बेनीवाल की महत्वकांक्षाओं के मेल से प्रदेश की राजनीति में नए समीकरणों का उदय हुआ.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी और खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी का गठबंधन होने के पीछे कई कारण रहे हैं. बीजेपी की नागौर में मजबूत जाट चेहरे की जरूरत और बेनीवाल की महत्वकांक्षाओं के मेल से प्रदेश की राजनीति में नए समीकरणों का उदय हुआ है.

लोकसभा चुनाव-2019: बीजीपी-आरएलटीपी के गठबंधन में इन नेताओं ने निभाया अहम रोल

दरअसल बीजेपी के पास नागौर में कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति मिर्धा के मुकाबले कोई जीताऊ उम्मीदवार नहीं था. मौजूदा सांसद सीआर चौधरी सर्वे में हार रहे थे. बीजेपी के कई पूर्व विधायक और मंत्री सीआर चौधरी का विरोध कर रहे थे. जिले के बड़े बीजेपी नेता युनुस खान, विजय सिंह और मानसिंह किनसरिया समेत कई नेता सीआर चौधरी से खफा थे. ऐसे में पार्टी के पास दूसरा कोई मजबूत जाट चेहरा नहीं था.

लोकसभा चुनाव-2019: बीजेपी और आरएलटीपी में गठबंधन, नागौर से लड़ेंगे हनुमान बेनीवाल

विधानसभा चुनाव परिणामों से बेनीवाल को लगा था झटका
दूसरी तरफ अपनी नवगठित पार्टी आरएलटीपी के जरिए राजनीति के मैदान में नई पारी की शुरुआत कर रहे खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल के सपने उस समय चकनाचूर हो गए जब चुनावी नतीजों में कांग्रेस बहुमत के आंकड़े के पास पहुंच गई. खंडित जनादेश मिलने की संभावनाओं के चलते खुद के लिए बड़ी भूमिका तैयार करने में जुटे हनुमान बेनीवाल के लिए यह तगड़ा झटका था. आरएलटीपी के कार्यकर्ता नई सरकार के गठन के बाद इस बात से परेशान थे कि आखिर उनका नेता सरकार का हिस्सा बने बिना कैसे पार्टी को मजबूत करेगा.

लोकसभा चुनाव-2019: कौन हैं नागौर में BJP के तारणहार बनने वाले बेनीवाल ? यहां पढ़े पूरी कहानी
Loading...

ज्योति मिर्धा को टिकट मिलने के बाद बदले हालात
इन्हीं ऊहापोह के हालात के बीच लोकसभा चुनाव सिर पर आ गए. इस पर हनुमान ने पहले कांग्रेस से करीबियां बढ़ाई, लेकिन उनकी शर्तों के आगे वह झुकी नहीं. वहीं कांग्रेस ने अटकते अटकाते जब नागौर से पूर्व सांसद ज्योति मिर्धा का टिकट फाइनल कर दिया तो हनुमान बौखला उठे. कांग्रेस को सबक सिखाने के मकसद से हनुमान ने बीजेपी से संपर्क साधा. दूसरी तरफ बीजेपी खुद हनुमान से नजदीकियां बढ़ाना चाहती थी. इसलिए जैसे ही हनुमान और बीजेपी नेता आपस में मिलने लगे तो पार्टी के बड़े नेताओं की बांछें खिल गईं और बात बन गई.

लोकसभा चुनाव-2019: बागियों के प्रति बीजेपी का कड़ा रुख, कहा- अभी कांग्रेस को है जरूरत

प्रत्याशी चयन में बदलाव की आहट, कांग्रेस नए जातीय समीकरण और बीजेपी देख रही फीडबैक

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2019, 4:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...