होम /न्यूज /राजस्थान /

Lumpy skin havoc: गौवंश पर भारी पड़ रही सरकारी लापरवाही, पशु चिकित्सकों के आधे पद पड़े हैं खाली

Lumpy skin havoc: गौवंश पर भारी पड़ रही सरकारी लापरवाही, पशु चिकित्सकों के आधे पद पड़े हैं खाली

राजस्थान पशुपालन विभाग में निदेशक से लेकर डिप्टी डायरेक्टर तक के सैंकड़ों पद खाली पड़े हैं.

राजस्थान पशुपालन विभाग में निदेशक से लेकर डिप्टी डायरेक्टर तक के सैंकड़ों पद खाली पड़े हैं.

राजस्थान में गौवंश पर लंपी स्किन का कहर: राजस्थान में फैला लंपी स्किन बीमारी का संक्रमण गौवंश पर कहर (Lumpy skin havoc) ढा रहा है. हजारों गायें मौत का शिकार हो गई हैं. राजस्थान में करीब दो तिहाई जिलों में फैल चुके इस संक्रमण पर काबू पाना बेजा मुश्किल हो रहा है. इसका एक बड़ा कारण राजस्थान में पशु चिकित्सकों की भारी कमी भी माना जा रहा है. पशुपालन विभाग के सूत्रों के मुताबिक प्रदेश में पशु चिकित्सकों के कुल पदों के मुकाबले करीब आधे पद खाली पड़े हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

राजस्थान में पशु चिकित्सकों के कुल 2340 पदों में से 1141 पद रिक्त हैं.
राजस्थान में वरिष्ठ पशु चिकित्सकों के 1132 पदों में से 274 पद खाली पड़े हैं

जयपुर. राजस्थान में गौवंश में फैले लंपी वायरस ने कोहराम (Lumpy skin havoc) मचा रखा है. हजारों गायें बीमारी के कारण मौत की आगोश में समा चुकी हैं. पशुपालन विभाग के तमाम प्रयासों के बावजूद बीमारी का संक्रमण थमने की बजाय लगातार फैलता जा रहा है. इसकी एक बड़ी वजह राजस्थान में पशु चिकित्सकों की भारी कमी (Acute shortage of veterinarians) भी मानी जा रही है. इसके चलते सरकार के प्रयास इस बीमारी को रोकने में नाकाफी साबित हो रहे हैं. राजस्थान में पशु चिकित्सकों के करीब-करीब आधे पद खाली चल रहे हैं. राजस्थान में पशु चिकित्सकों के 2340 पदों में से 1141 पद रिक्त हैं.

जानकारों की मानें तो यही नहीं वरिष्ठ पशु चिकित्सकों के 1132 पदों में से 274 पद खाली पड़े हैं. ग्राउंड जीरो पर काम करने वाले एलएसए यानि पशुधन सहायकों के 1751 पद रिक्त चल रहे हैं. इतना ही नहीं पशु चिकित्सा सहायकों की डीपीसी नहीं होने के कारण उसके 749 पद रिक्त पड़े हैं. दरअसल राजस्थान में पशु चिकित्सकों की भर्ती-2019 से लंबित चल रही है. 900 पशु चिकित्सकों की भर्ती कोर्ट के विचाराधीन है.

पशुपालन मंत्री कह रहे हैं कि जल्द भर्तियां की जायेंगी
नवंबर 2021 में 300 पशु चिकित्सकों की भर्ती अस्थाई आधार पर की गई थी. अब लंपी स्किन के संक्रमण को देखते हुए इसी तरह की भर्ती करने की मांग भी फिर से उठ रही है. स्टाफ की कमी के कारण वरिष्ठ पशु चिकित्सकों को प्रशासनिक कार्य व्यवस्थार्थ लगाने से स्थितियां और बिगड़ गई हैं. अब सरकार के हाथ पांव फूल रहे हैं. पशुपालन मंत्री कह रहे हैं कि जल्द भर्तियां की जायेंगी.

निदेशक से लेकर डिप्टी डायरेक्टर तक के पद पड़े हैं खाली
पशुपालन विभाग में प्रशासनिक ढांचे की बात की जाए तो निदेशक के पद के साथ में अतिरिक्त निदेशक के 13 स्वीकृत पदों में से तीन पदों को अस्थाई रूप से जुगाड़ से चलाया जा रहा है. वहीं ज्वाइंट डॉयरेक्टर के नौ पद खाली हैं. डिप्टी डॉयरेक्टर फील्ड में सभी निर्देशों की पालना करवाते हैं उनके 274 पद खाली चल रहे हैं. प्रदेश के पचास फीसदी पशु चिकित्सालय वेटनरी कॉउंसिल ऑफ इंडिया की गाइडलाइन को पूरा नहीं कर रहे हैं.

बीजेपी ने उठाए रिक्त पदों पर सवाल
पूर्व पशुपालन मंत्री प्रभुलाल सैनी ने रिक्त पदों को लेकर सरकार से सवाल किए हैं. सैनी ने कहा कि सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयास रिक्त पदों के चलते नाकाफी साबित हो रहे हैं. वहीं मौजूद पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया का कहना है कि लंपी स्किन से निपटने के लिए पशुपालन और गोपालन के साथ साथ कृषि विभाग के पर्यवेक्षकों तथा नगर निकायों में कार्यरत पशु चिकित्साकर्मियों का सहयोग भी लिया जा रहा है. जल्द ही रिक्त पदों को भरा जाएगा.

Tags: Ashok Gehlot Government, Cow, Jaipur news, Rajasthan news

अगली ख़बर