Assembly Banner 2021

Jaipur News: 2 दस्तावेजों में अटकी बालिका की शादी, बालिग या नाबालिग अभी तक नहीं हो पाई पुष्टि

चाइल्ड लाइन को नाबालिग बच्ची की जबरदस्ती शादी करवाने की शिकायत 1098 पर मिली थी.

चाइल्ड लाइन को नाबालिग बच्ची की जबरदस्ती शादी करवाने की शिकायत 1098 पर मिली थी.

जयपुर में एक बालिका का विवाह (Marriage) दस्तावेजों के फेर में फंसकर रह गया है. पुलिस अब इस बात की तस्दीक करने में लगी है कि बालिका बालिग या नाबालिग (Adult or minor). फिलहाल बालिका को गांधी नगर बालिका गृह भेज दिया गया है.

  • Share this:
जयपुर. राजधानी जयपुर में एक बालिका का विवाह (Marriage) दस्तावेजों में उलझकर रह गया है. बालिका के परिजनों की ओर से पेश किये गये दस्तावेजों के मुताबिक उसकी उम्र 19 वर्ष है. लेकिन चाइल्ड लाइन संस्था (Child line organization) के कहना है कि बालिका के परिजन झूठ बोल रहे हैं. बालिका की उम्र महज 13 साल है. चाइल्ड लाइन की शिकायत पर पुलिस ने बालिका का विवाह रुकवा दिया है. वह दोनों पक्षों की ओर से पेश किये दस्तावेजों की जांच में जुटी है. इसके साथ ही मामले में तसल्ली के लिए बालिका का मेडिकल करवाकर भी उसकी असली उम्र का पता लगाया जायेगा कि वह 13 साल की है या 19 की.

जयपुर के महेश नगर इलाके में ये मामला रविवार को सामने आया. बताया जा रहा है कि 13 साल की नाबालिग का फर्जी आधार कार्ड पुलिस के सामने रख उसकी उम्र 20 साल बताई गई. उसी आधार पर उसका विवाह करवाने की कोशिश की गई. लेकिन चाइल्ड लाइन संस्था की शिकायत पर पुलिस ने विवाह को रुकवा दिया. पुलिस और चाइल्ड लाइन की टीम जब मौके पर पहुंची थी तो पहली बार तो फर्जी दस्तावेज देख ये मानकर वापस लौट आए थे कि लड़की बालिग है. लेकिन बाद में चाइल्ड लाइन ने अपने स्तर पर जांच पड़ताल कर दावा किया कि दूसरे दस्तावेजों में बालिका की उम्र 13 साल ही है. इससे यह मामला पेचिदा हो गया.

जबरदस्ती शादी करवाने की 1098 पर शिकायत मिली थी
चाइल्ड लाइन को नाबालिग बच्ची की जबरदस्ती शादी करवाने की शिकायत 1098 पर मिली थी. इसके बाद चाइल्ड लाइन की टीम महेश नगर थाना पुलिस को लेकर मौके पर पहुंची। थानाधिकारी घनश्याम सिंह को परिजनों ने बच्ची का आधार कार्ड और जन्म प्रमाण पत्र दिखाया. उसमें उसकी जन्म तिथि 2001 लिखी थी. इसके हिसाब से बच्ची 20 साल की लगी. पुलिस को देखने मे भी बालिका कहीं से नाबालिग नहीं लगी. उसके बाद चाइल्ड लाइन को जो दस्तावेज मिले हैं, जिनमें बच्ची की जन्म तिथि 2007 लिखी हुई सामने आई है.
लड़की को गांधी नगर बालिका गृह भेज दिया गया है


चाइल्ड लाइन के कॉर्डिनेटर दिनेश शर्मा ने बताया कि जिस लड़के से नाबालिग की शादी कराई जा रही थी वह 27 साल का है. बच्ची को करणी विहार से रेस्क्यू किया गया है. अब लड़की को गांधी नगर बालिका गृह भेज दिया गया है. लड़की का मेडिकल भी कराया जा रहा है ताकि उसकी उम्र को लेकर दस्तावेजों के अलावा भी पुलिस के पास कोई प्रूफ हो. महेश नगर पुलिस ने साफ किया है कि मामले सख्त कार्रवाई की जाएगी. यदि दस्तावेज फर्जी पाये गये तो परिजनों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला अलग से दर्ज किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज