Home /News /rajasthan /

कर्ज में डूबी सरकार को उबारेंगे मायाराम, विरासत में मिला है 2,78,132 करोड़ रुपये का कर्जा

कर्ज में डूबी सरकार को उबारेंगे मायाराम, विरासत में मिला है 2,78,132 करोड़ रुपये का कर्जा

अरविंद मायाराम। फाइल फोटो

अरविंद मायाराम। फाइल फोटो

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आर्थिक सलाहकार के रूप में आर्थिक मामलों के एक्सपर्ट अरविंद मायाराम को अपना आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया है. अरविंद मायाराम की सलाह के जरिये सरकार कर्ज के भार को न्यूनतम करेगी.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आर्थिक सलाहकार के रूप में आर्थिक मामलों के एक्सपर्ट अरविंद मायाराम को अपना आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया है. अरविंद मायाराम की सलाह के जरिये सरकार कर्ज के भार को न्यूनतम करेगी. गहलोत सरकार को विरासत में 2 लाख, 78 हजार 132 करोड़ रुपये का कर्जा मिला है. अब अरविंद मायाराम के सामने कर्ज कम करने के साथ ही चुनावी एजेंडे में शामिल घोषणाओं को पूरा करने के लिए धन की व्यवस्था करना की बड़ी चुनौती है. अरविंद मायाराम केन्द्रीय वित्त मंत्रालय में सचिव रह चुके हैं.

नई गहलोत सरकार ने घोषणा-पत्र में किए गए वादे को पूरा करने के लिए प्रदेश के किसानों की कर्ज माफी का ऐलान कर दिया है. इससे सरकार के ऊपर 18 हजार करोड़ रुपए का आर्थिक भार आएगा. सरकार की दूसरी बड़ी घोषणा बेरोजगारों को भत्ता देने की है. सरकार ने अपने घोषणापत्र में पात्र बेरोजगारों को साढ़े तीन हजार रुपए भत्ता देने की घोषणा की थी. इस घोषणा को पूरा करने के लिए सरकार को बड़ा आर्थिक भार उठाना पड़ेगा.

ये है कर्जे का गणित
- 2008 में राजस्थान पर 77 हजार 160 करोड़ का कर्ज था.
- 2013 में ये कर्ज बढ़ कर 1 लाख 17 हजार 805 करोड़ रुपए हो गया.
- 2018 में ये कर्ज 2 लाख 78 हजार 132 करोड़ रुपए हो गया.
- गहलोत की पूर्ववर्ती सरकार के पांच साल में कर्ज करीब 40 हजार करोड़ रुपए बढ़ गया.
- जबकि ये ही कर्ज पिछली बीजेपी की वसुंधरा राजे सरकार में पांच साल में 1 लाख 61 हजार करोड़ रुपए और बढ़ गया.
- पांच साल में वसुंधरा सरकार ने दोगुना कर्ज लिया.

यह भी पढ़ें: खुशवीर सिंह जोजावर: एक 'जलयोद्धा' जिसने जनता से पैसा जुटाकर बीजेपी-कांग्रेस को दी मात 

वसुंधरा सरकार में गठित बोर्ड और आयोग भंग, राज्यमंत्री और उपमंत्री का दर्जा लिया वापस

पुरानी कल्याणकारी योजनाओें को भी वापस लागू करना है
गहलोत सरकार मायाराम की सलाह के जरिए कठिन राह को आसान बनाना चाहती है. इसके अलावा सरकार को अपनी पुरानी जन कल्याणकारी योजनाओं जिनमें निशुल्क जांच योजना सहित कई योजनाएं शामिल हैं, उन्हें भी वापस शुरू करना है. ऐसे में अरविंद मायाराम की भूमिका काफी महत्वपूर्ण हो गई है.

Tags: Ashok gehlot, Congress, Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर