लाइव टीवी

अपने ही जवाब पर सदन में घिरे अल्पसंख्यक मंत्री, स्‍पीकर ने कही ये बात
Jaipur News in Hindi

Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: February 19, 2020, 4:22 PM IST
अपने ही जवाब पर सदन में घिरे अल्पसंख्यक मंत्री, स्‍पीकर ने कही ये बात
विधायक के सवाल पर फंस गए मंत्री.

राजस्‍थान के अल्पसंख्यक मंत्री सालेह मोहम्मद (Saleh Mohammed) मदरसा पैराटीचर्स को लेकर दिए जवाब पर घिर गए हैं. जबकि स्पीकर डॉ.सीपी जोशी के सवाल का भी उन्‍हें जवाब देते नहीं आया.

  • Share this:
जयपुर. राजस्‍थान विधानसभा (Rajasthan Legislative Assembly) में अल्पसंख्यक मंत्री सालेह मोहम्मद (Saleh Mohammed) अपने ही जवाब पर घिर गए. कांग्रेस विधायक अमीन खां द्वारा प्रश्नकाल में सवाल पूछा गया था कि क्या मदरसों में लगे पैराटीचर्स का एक जिले से दूसरे जिले में तबादला किया गया है. इस पर मंत्री ने कहा कि संविदाकर्मियों का तबादला नहीं किया जा सकता, लेकिन कुछ विशेष मामलों और शून्य नामांकन वाले मदरसों में कार्यरत करीब 212 पैराटीचर्स को समायोजित किया गया है.

विधायक ने जताया ऐतराज
मंत्री के इस जवाब पर विधायक अमीन खां ने ऐतराज जताते हुए कहा कि एक ओर संविदाकर्मियों के तबादलों का नियमों में प्रावधान नहीं होने की बात कही जा रही है और दूसरी ओर उनके तबादले भी किए जा रहे हैं. स्पीकर डॉ.सीपी जोशी ने भी मंत्री से पूछा कि बिना नियमों के ही समायोजन कैसे कर दिया गया. स्पीकर के सवाल पर मंत्री को जवाब देते नहीं बना. इसके बाद स्पीकर के निर्देश पर मंत्री सालेह मोहम्मद ने कहा कि जल्द ही इस संबंध में नियम-कायदे बनाए जाएंगे.

बिना कार्मिकों के चल रहे हैं औषधालय



प्रदेश के आयुर्वेद औषधालयों में बड़ी संख्या में चिकित्सकों और दूसरे कार्मिकों के पद खाली हैं. राज्य में संचालित हो रहे 3579 आयुर्वेद औषधालयों में से 41 तो ऐसे हैं जिनमें चिकित्सक के साथ ही कम्पाउंडर और परिचारकों के पद भी रिक्त हैं. मंत्री रघु शर्मा ने आज विधानसभा में विधायक किरण माहेश्वरी के सवाल के जवाब में कहा कि ऐसे औषधालयों में समीप के चिकित्सा अधिकारी और कम्पाउंडर को सप्ताह में दो दिन कार्य व्यवस्था के लिए लगाने की व्यवस्था की गई है.

मंत्री ने कहा कि विभाग में डायरेक्टर का पद खाली है. इसके साथ ही पीएमओ और डिप्टी डायरेक्टर के भी सभी 133 पद खाली हैं. आयुर्वेद विभाग में कम्पाउंडर के 986 और परिचारक के 1213 पद रिक्त हैं. आयुर्वेद चिकित्सकों की 2015 और परिचारक की अंतिम भर्ती 1995 में हुई थी. हालांकि कम्पाउंडर के 397 पदों पर पदस्थापन आदेश जारी किये जा चुके हैं. मंत्री ने यह भी कहा कि जल्द ही डीपीसी के जरिए उच्च पद भरे जाएंगे.

 

ये भी पढ़ें-

नक्सलियों से मुठभेड़ में शहीद हुए अजीत सिंह की शहादत को सलाम करने उमड़ा जन सैलाब

 

राजस्थान में गहलोत सरकार ने अफसरों पर कसी लगाम, लगा दी ये पाबंदियां

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 19, 2020, 4:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर