राजस्थान: बसपा से कांग्रेस में आए विधायक बोले- हम लोगों के साथ न्याय नहीं हुआ

विधायकों ने कहा कि कांग्रेस में विलय करते समय हम लोगों ने कोई शर्त नहीं रखी थी. लेकिन जिन लोगों की वजह से सरकार बची उनका मान सम्मान रहना चाहिए.

Rajasthan political crisis: बसपा से कांग्रेस में शामिल हुये विधायक भी गहलोत और पायलट गुट (Gehlot Vs Pilot) की रस्साकसी के कारण चल रहे सियासी संकट के बीच खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं. इन विधायकों ने आज फिर बैठक कर कहा कि उनके साथ नाइंसाफी हुई है.

  • Share this:
जयपुर. बसपा से कांग्रेस (Congress) में शामिल हुए विधायकों ने आज फिर जयपुर में बैठक की. विधायक संदीप यादव (Sandeep Yadav) के आवास पर हुई इस बैठक में राजेंद्र सिंह गुढ़ा, जोगिंदर सिंह अवाना और लाखन मीणा (Rajendra Singh Gling, Joginder Singh Awana and Lakhn Meena) शामिल हुए. बैठक में प्रदेश के वर्तमान सियासी घटनाक्रम को लेकर चर्चा हुई. बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में इन विधायकों ने कहा कि राजस्थान में सरकार सुचारू रूप से चले यह हमारी कोशिश है लेकिन हम लोगों के साथ न्याय नहीं हुआ.

विधायकों ने कहा कि मुख्यमंत्री ने हम लोगों के काम खूब किए लेकिन अब ढाई साल का वक्त निकल चुका है और अब मंत्रिमंडल विस्तार जल्द होना चाहिए. विधायकों ने यह भी कहा कि हम लोगों ने सरकार बचाई. ऐसे में आलाकमान को वफादार और गैर वफादार में अंतर करना चाहिए. हम लोगों ने पूरी ईमानदारी से कांग्रेस में विलय किया था. लेकिन यहां हमें दूसरी नजर से देखा जा रहा है जो गलत है.

आलाकमान को दबाव में नहीं आना चाहिए
उन्होंने कहा कि कुछ लोग बार-बार आलाकमान पर प्रेशर बना रहे हैं जबकि उन लोगों ने सरकार को अस्थिर करने का काम किया है. उन्होंने कहा कि आलाकमान को दबाव में नहीं आना चाहिए. सरकार उन लोगों की मेहनत से नहीं बनी थी बल्कि हम लोगों की वजह से बची थी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में विलय करते समय हम लोगों ने कोई शर्त नहीं रखी थी. लेकिन जिन लोगों की वजह से सरकार बची उनका मान सम्मान रहना चाहिए.

कल भी सरकार पर बरसे थे विधायक गुढ़ा
उल्लेखनीय है कि कल भी इन विधायकों की बैठक हुई थी. कल उदयपुवाटी विधायक राजेन्द्र सिंह गुढ़ा ने कहा था कि अगर एक साल पहले हम और 10 निर्दलीय विधायक समर्थन नहीं देते तो गहलोत के पास रिजाइन देने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था. अब तक तो राज्य सरकार की पहली पुण्यतिथि मन चुकी होती. इससे पहले भी गुढ़ा ने मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कहा था कि शादी समय पर ही हो जानी चाहिये, बुढ़ापे में शादी करने का कोई मतलब नहीं रहता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.