Rajasthan Unlock: कल से मिलेगी बड़ी राहत, बसों का 50% क्षमता के साथ होगा संचालन

अशोक गहलोत सरकार कल से लॉकडाउन में बड़ी राहत देने जा रही है.

अशोक गहलोत सरकार कल से लॉकडाउन में बड़ी राहत देने जा रही है.

Rajasthan Unlock: राजस्थान में त्रिस्तरीय जन-अनुशासन मॉडिफाइड लॉकडाउन की नई गाइडलाइन के तहत प्रदेश में कल यानि 10 जून से सरकारी और प्राइवेट बसों का संचालन शुरू हो जाएगा.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान में त्रिस्तरीय जन-अनुशासन मॉडिफाइड लॉकडाउन की नई गाइडलाइन के तहत प्रदेश में कल यानि 10 जून से सरकारी और प्राइवेट बसों का संचालन शुरू हो जाएगा. फिलहाल 50% क्षमता के साथ ही रोडवेज बसों का संचालन होगा. मॉडिफाइड लॉकडाउन के तहत जारी दिशा-निर्देशों की पालना के साथ बसों का संचालन होगा। 10 मई को प्रदेश में संपूर्ण लॉक डाउन लागू होने के बाद बसों का संचालन बंद करवा दिया गया था. अब करीब एक महीने बाद प्राइवेट और सरकारी बसें सड़क पर दौड़ती हुई दिखाई देंगी.

गृह विभाग की गाइडलाइन की पालना के तहत राज्य परिवहन विभाग ने सरकारी बसों के संचालन के आधिकारिक आदेश भी जारी कर दिए है. करीब 1 महीने से बस डिपो में खड़ी हुई थी. इसके चलते सरकार को राजस्व में भी भारी कमी आई है. शहरों में सिटी बसों का संचालन फिलहाल बंद रहेगा. निजी बसों को भी तय रूट पर चलाया जाएगा.

इन दिशा निर्देशों का करना होगा पालन

सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के लिए तय क्षमता से आधे यात्री ही बैठाए जाएंगे. बस में खड़े होकर किसी को यात्रा की अनुमति नहीं रहेगी. बसों को डिपो से निकालने से पहले सोडियम हाइपोक्लोराइड से पूरी तरह से सैनेटाइज किया जाएगा. बसों में यात्रियों को मास्क का प्रयोग करना होगा. बिना मास्क यात्री को बस में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. चालक और परिचालक को भी मास्क लगाना अनिवार्य होगा. यात्रियों के मास्क नहीं होने पर चालान की कार्रवाई की जाएगी.
1 महीने से थमे हुए बसों के पहिए

प्रदेश में कोरोना संक्रमण बढ़ने के कारण राज्य सरकार ने 10 मई से संपूर्ण लॉकडाउन लागू कर दिया. जिसके बाद बसे बस डिपो में ही खड़ी रही. रोडवेज बसों के बंद होने से राज्य सरकार को करोड़ों रुपए की राजस्व हानि हो रही है, लेकिन अब बसों के संचालन से राजस्व अर्जित होगा. रोडवेज कर्मचारियों के वेतन का भी सरकार पर अतिरिक्त भार पड़ गया है. कर्मचारियों को  वेतन भी बहुत देरी से मिल रहा है। राजस्थान रोड़वेज बस डीपो में करीब 4 हजार बसें है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज