नगर निगम चुनाव: कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन, आयोग ने दिखाई सख्ती, कोटा कलक्टर को थमाया कारण बताओ नोटिस

कलक्टर के जवाब के बाद आयोग विधि सम्मत कार्रवाई करेगा.
कलक्टर के जवाब के बाद आयोग विधि सम्मत कार्रवाई करेगा.

Municipal Corporation Election: निर्वाचन आयोग ने कोरोना प्रोटोकॉल (Corona protocol) की पालना नहीं करवा पाने पर कोटा कलक्टर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

  • Share this:
जयपुर. राजधानी जयपुर, जोधपुर और कोटा नगर निगम में हो रहे चुनावों में (Municipal Corporation Election) कोरोना प्रोटोकॉल की पालना को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग सख्त हो गया है. आयोग ने कोरोना प्रोटोकॉल (Corona protocol) की पालना नहीं करा पाने पर कोटा के जिला कलक्टर को कारण बताओ नोटिस (Show cause notice) थमा दिया है. मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्याम सिंह राजपुरोहित ने बताया कि कोरोना प्रोटोकॉल की पालना नहीं होने पर कोटा कलक्टर के कारण बताओ नोटिस दिया गया है. फिलहाल कोटा कलक्टर ने राज्य निर्वाचन आयोग के नोटिस का जवाब नहीं दिया है.

मीडिया की खबरों पर लिया स्वतः संज्ञान
राज्य निर्वाचन आयोग ने इस मामले में मीडिया में आई खबरों पर स्वतः संज्ञान लिया था. मीडिया में कोरोना प्रोटोकॉल की पालन नहीं होने की खबरें आईं थी. मीडिया में खबर आई थी कि कोटा कलक्टर प्रोटोकॉल की पालना कराने में असफल रहे हैं. यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं. इस पर आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया और कोटा के कलक्टर को कारण बताओ नोटिस थमाया.

Jaipur: अजब-गजब केस, रावण को ले गई पुलिस, छुड़वाने के लिये कोर्ट पहुंचे लोग, जानिये क्या है पूरा मामला




आयोग को कलक्टर के जवाब का इंतजार
अब कोटा कलक्टर को आयोग को जवाब भेजना है. फिलहाल आयोग कलक्टर के जवाब का इंतजार कर रहा है. कलक्टर के जवाब के बाद आयोग विधि सम्मत कार्रवाई करेगा. राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम- 2005 की विभिन्न धाराओं के तहत कोरोना गाइडलाइन की पालन नहीं करने पर सजा और भारी जुर्माने का प्रावधान है.

जमकर उड़ाई गई है गाइडलाइन की धज्जियां
उल्लेखनीय है कि चुनाव पूर्व राज्य निर्वाचन आयोग ने कारोनो प्रोटोकॉल को लेकर गाइडलाइन जारी की थी. लेकिन आयोग की इस गाइडलाइन की नामांकन होने से लेकर मतदान होने तक में जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है. चुनाव प्रचार के दौरान प्रत्याशियों ने गाइडलाइन की पालना का ध्यान नहीं रखा. समर्थकों की भीड़ के साथ प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार किया. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान नहीं रखा गया और मास्क का भी उपयोग कम ही लोगों ने किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज