Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    नगर निगम चुनाव: जयपुर में दिलचस्प मुकाबला, बहू और बेटी में हो रही कड़ी टक्कर

    इस वार्ड का नतीजा चाहे कुछ भी लेकिन यहां मुकाबला बड़ा रोचक होने वाला है.
    इस वार्ड का नतीजा चाहे कुछ भी लेकिन यहां मुकाबला बड़ा रोचक होने वाला है.

    Municipal Corporation elections: जयपुर हेरिटेज नगर निगम के वार्ड-81 में बहू और बेटी (daughter-in-law and daughter) के बीच रोचक मुकाबला हो रहा है. यह मुकाबला इन दिनों चर्चा में बना हुआ है.

    • Share this:
    जयपुर. राजधानी जयपुर समेत जोधपुर और कोटा के 6 नगर निगमों में हो रहे चुनावों (Municipal Corporation elections) में कई रोचक मुकाबले हो रहे हैं. ऐसा ही एक रोचक मुकाबला जयपुर (Jaipur) में हो रहा है. जयपुर के हेरिटेज नगर निगम के वार्ड नंबर 81 में बेटी और बहू (daughter-in-law and daughter) में मुकाबला हो रहा है. यहां एक भाई की बेटी चुनाव मैदान में है तो दूसरे भाई की पुत्रवधू. दोनों ही भाइयों का अपने समाज पर खासा प्रभुत्व है. इससे अब इस समाज से जड़े लोग असमंजस में हैं किसको वोट दें और किसे नहीं.

    राजधानी के हेरिटेज नगर निगम में वार्ड नंबर 81 महावत समाज के बाहुल्य मतदाताओं का है. इस वार्ड से बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर शबाब खान है चुनाव मैदान में हैं. शबाब खान बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा की सदस्य अजीज खान की बहू हैं. वे एक एक घर जा रही हैं और पूरे कॉन्फीडेंस के साथ कह रहीं हैं कि रिश्तेदारी अपनी जगह और चुनाव अपनी जगह. शबाब खान विकास और पार्टी के काम के नाम पर वोट मांग रही हैं. उनका कहना है कि चाहे कुछ भी हो जाये वो जीतकर ही दिखाएंगी.

    Minister-officer controversy: यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने खोला अजमेर संभागीय आयुक्त के खिलाफ मोर्चा



    कांग्रेस के टिकट पर असमा खान चुनावी मैदान में हैं
    दूसरी ओर इस वार्ड से कांग्रेस के टिकट पर असमा खान चुनावी मैदान में हैं. असमा अभी ग्रेजुऐशन कर रहीं हैं. वे कांग्रेस माइनोरिटी विभाग के सदस्य सलीम खान की बेटी हैं. असमा खान ने स्टूडेंट्स की अपनी पूरी टीम तैयार कर प्रचार का सिलसिला जारी रखा हुआ है. असमा का कहना है कि दोनों उम्मीदवार एक ही घर से हैं. इसका मतदाताओं पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है. लोगों को काम से मतलब है. वे अपने इलाके में पानी, बिजली और सीवरेज जैसी समस्याओं को समय पर दूर कराने की उम्मीद रखते हैं. बकौल असमा वे काम कराने के नाम पर ही वोट मांग रही हैं.

    मुकाबले को लेकर लोगों में काफी चर्चा है
    इस वार्ड का नतीजा चाहे कुछ भी लेकिन यहां मुकाबला बड़ा रोचक होने वाला है. इस मुकाबले को लेकर लोगों में काफी चर्चा है. दोनों ही भाइयों का महावत समाज पर अच्छा प्रभाव है. इस वार्ड में निर्यायक वोट भी महावत समाज के ही होते हैं. ऐसे पूरा महावत समाज धर्म संकट में आ गया है कि किसे वोट दें और किसे नहीं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज