Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Jaipur: मिलिए सबसे कम उम्र की पार्षद से, असमां ने महज 21 साल की उम्र में जीता पहला चुनाव

    असमा मध्यमवर्गीय परिवार से है.  अब वह राजनीति को अपना करियर बनाना चाहती है.
    असमा मध्यमवर्गीय परिवार से है. अब वह राजनीति को अपना करियर बनाना चाहती है.

    Municipal Corporation Elections: महज 21 साल की असमां खान बीए फाइनल ईयर की छात्रा है. जीत से उत्साहित असमां खान का कहना है कि वे जरूरतमंदों की हर मुमकिन मदद करेगी.

    • Share this:
    जयपुर. नगर निगम चुनाव (Municipal Corporation elections) में जहां कई स्थानीय धुंरधरों ने चुनाव मैदान में आकर अपने राजनीतिक कौशल का परिचय दिया है. वहीं, कुछ ऐसे युवा भी हैं जिन्होंने इन चुनावों से राजनीति की एबीसीडी सीखनी शुरू की है. ऐसी ही एक युवा नेत्री हैं असमां खान (Asma Khan). पहली बार चुनाव लड़कर महज 21 साल की उम्र में पार्षद बनने वाली असमा ने निगम चुनाव से अपने राजनीति करियर की शुरुआत की है.

    असमां खान ने राजधानी जयपुर के हैरिटेज नगर निगम के वार्ड नंबर 81 से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीता है. बीए फाइल ईयर की छात्रा असमा जीत बाद खुश नजर आई. राजनीति को करियर बनाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि परिवार वालों के कहने पर पार्षद का चुनाव लड़ा है. जीत से उत्साहित असमा खान का कहना है कि वे जरूरतमंदों की हर मुमकिन मदद करेगी.

    नगर निगम चुनाव: गहलोत सरकार के मंत्रियों और विधायकों का रिपोर्ट कार्ड, देखें किसकी कैसी रही परफॉर्मेंस

    वार्ड महिला के लिए था आरक्षित


    मध्यमवर्गीय परिवार से आने वाली जयपुर हैरिटेज नगर निगम की सबसे युवा पार्षद असमां ने बताया कि वैसे इस वार्ड के कई दावेदार थे, लेकिन युवा और विधार्थी होने का उन्हें फायदा मिला. इसके कारण कांग्रेस ने उनको अपना उम्मीदवार बनाया. असमां ने बताया कि पार्षदी करने के साथ साथ वो अपनी पढ़ाई भी जारी रखेंगी.

    नगर निगम चुनाव: जयपुर में कैबिनेट मंत्री, मुख्य सचेतक और BJP प्रदेशाध्यक्ष अपने ही वार्डों में नहीं जीता पाये पार्टी को

    हैरिटेज नगर निगम में किसका बोर्ड बनेगा अभी तय नहीं
    जयपुर हैरिटेज नगर निगम में कांग्रेस-बीजेपी दोनों को ही स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. यह जरूर है कि यहां कांग्रेस पार्टी ने बढ़त बना रखी है. कांग्रेस ने इस वार्ड की कुल 100 सीटों में से 47 पर जीत दर्ज करायी है. इस निगम क्षेत्र में बीजेपी को 42 सीटें मिली हैं. यहां 11 वार्डों में निर्दलीय पार्षद जीते हैं. इस निगम में बोर्ड बनाने के लिये कांग्रेस को केवल 4 पार्षदों की आवश्यकता है, जबकि बीजेपी को इस निगम में काबिज होने के लिये 9 पार्षदों की जरूरत है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज