नागौर MP हनुमान बेनीवाल ने वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत के बारे में ये क्या कह दिया?

News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 1:26 PM IST
नागौर MP हनुमान बेनीवाल ने वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत के बारे में ये क्या कह दिया?
सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा है कि अब हाईकोर्ट का पता लगेगा कि हाईकोर्ट का डंडा गरीबों पर चलता है या बड़े लोगों पर चलता है'. (फोटो-फेसबुक से साभार)

सांसद हनुमान बेनीवाल (MP Hanuman Beniwal) ने हाईकोर्ट (Rajasthan High Court) के फैसले के बाद कब्जा जमाए बैठे पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) सहित अन्य मंत्रियों के बंगले 3 दिन में खाली करवाने की मांग उठाई है. उन्होंने ये भी कहा कि वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) और सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) मिले हुए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2019, 1:26 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के नागौर (Nagaur) MP हनुमान बेनीवाल (MP Hanuman Beniwal) ने राजस्थान मंत्री वेतन संशोधन अधिनियम 2017 को अवैध घोषित किए जाने के हाईकोर्ट (Rajasthan High Court) के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने इस मसले पर गुरुवार को कहा कि अब कोर्ट के आदेश के बाद कब्जा जमाए बैठे पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) सहित अन्य मंत्रियों के बंगले 3 दिन में खाली होने चाहिए. ऐसा नहीं होता है तो हाईकोर्ट के फैसले को लेकर लोगों के बीच गलत मैसेज जाएगा. इस मसले पर बात करते हुए हनुमान बेनीवाल ने वसुंधरा राजे और सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) को लेकर भी विवादास्पद बोल बोले, उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे मिले हुए हैं.

'गहलोत-वसुंधरा के लंच-डीनर साथ होते हैं'
सांसद बेनीवाल ने यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि, 'अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे दोनों मिले हुए हैं. मैंने पहले भी कहा था तब नई पार्टी बनाई. गहलोत वसुंधरा के लंच डीनर साथ होते हैं. अब दोनों फिर मिल गए. वसुंधरा का बंगला गहलोत को खाली कराना पड़ेगा. अगर खाली नहीं कराया तो कोर्ट का कंटेम्प्ट होगा'.



'वसुंधरा हाईकोर्ट से बड़ी है क्या?'
बेनीवाल ने कहा कि, 'अगर कोर्ट के कंप्टेम्प्ट की आड़ के अंदर इन गरीब बंजारों की बस्तियां उजाड़ी जा सकती हैं, दूसरे गरीबों का आशियाना उजाड़ा जा सकता है. तो फिर वसुंधरा हाईकोर्ट से बड़ी है क्या? ये तो हाईकोर्ट को खुद ही संज्ञान लेना चाहिए. अब हाईकोर्ट का पता लगेगा कि हाईकोर्ट का डंडा गरीबों पर चलता है या बड़े लोगों पर चलता है'.

तीन दिन के अंदर बंगला खाली हो
Loading...

सांसद ने कहा कि, 'पहले सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बंगले खाली हो रहे थे. और ये बिल सरकार लेकर आई. फिर बिल को अवैधानिक करार दिया और अब तुरंत तीन दिन के अंदर अगर बंगले खाली हों तब हाईकोर्ट का मैसेज जाएगा. नहीं तो लोग कह देंगे कि हाईकोर्ट एक तरफ गरीबों के लिए तो इस तरह के आदेश पारित करता है और अमीरों के लिए अलग तरह का आदेश होता है'. उन्होंने कहा, 'मेरी बात हाईकोर्ट सुन रहे है तो निश्चिततौर पर हाईकोर्ट भी मंथन करेगा. हाईकोर्ट को भी स्वयं आगे आकर... खुद भी अपने स्तर कंटेम्प्ट (न्यायालय की अवमानना) की कार्रवाई चालू कर सकते हैं'.

सरकार हाईकोर्ट का आदेश नहीं मान रही
बेनीवाल ने सीएम पर आरोप लगाए कि, 'गहलोत का यह कहना है कि मैं हाईकोर्ट की नहीं मानता हाई कोर्ट से बड़ा हूं और बंजारा के मामालो में गहलोत कह रहे थे कि मैं क्या करू? हाईकोर्ट नहीं मान रहा है. मतलब वहां तो हाईकोर्ट नहीं मान रहा है, यहां कह रहे हैं कि मैं हाई कोर्ट को नहीं मानता हूं. और इससे ये साबित हो गया कि वसुंधरा राजे और गहलोत मिले हुए हैं. वसुंधरा ने अपने बंगले पर 15 करोड़ रुपए से अधिक रुपए खर्च करा के सेवन स्टार होटल बना दिया. और उसी का परिणाम राजस्थान की जनता को भुगतना पड़ रहा है'.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 4:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...