Home /News /rajasthan /

नया खतरा: कोरोना संकट के बीच प्रदेश में पाक के रास्ते फिर शुरू हुआ 'टिड्डी टेरर'

नया खतरा: कोरोना संकट के बीच प्रदेश में पाक के रास्ते फिर शुरू हुआ 'टिड्डी टेरर'

कोरोना संकट के बीच राजस्थान में फिर से टिड्डी टेरर की शुरुआत हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर )

कोरोना संकट के बीच राजस्थान में फिर से टिड्डी टेरर की शुरुआत हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर )

कोरोना (COVID-19) से जूझ रही राज्य सरकार के सामने एक और बड़ी चुनौती आ खड़ी हुई है. कोरोना संकट के बीच राजस्थान में फिर से टिड्डी टेरर (Locust terror) की शुरुआत हो गई है.

जयपुर. कोरोना (COVID-19) से जूझ रही राज्य सरकार के सामने एक और बड़ी चुनौती आ खड़ी हुई है. कोरोना संकट के बीच राजस्थान में फिर से टिड्डी टेरर (Locust terror) की शुरुआत हो गई है. पश्चिमी राजस्थान में भारत-पाकिस्तान बॉर्डर से सटे इलाकों में टिड्डी दलों का आना शुरू हो गया है। इससे किसान एक बार फिर सकते में आ गए हैं. प्रदेश के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने इसे लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है और संभावित खतरे के प्रति आगाह किया है.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहल करने का आग्रह
हरीश चौधरी ने केंद्र से टिड्डी नियंत्रण के कदम उठाने का आग्रह किया है. मंत्री चौधरी ने इससे बचने के लिए प्रभावी कार्य योजना तैयार करने के साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहल करने का आग्रह किया है. राजस्व मंत्री ने विश्व स्वास्थ्य संगठन और एफएओ का हवाला देते हुए कहा है कि खतरा अलार्मिंग स्टेज पर ही है. पूर्वी अफ्रीका और अरेबियन देशों समेत कई देशों में टिड्डियों का प्रजनन जारी है. यह भारत के किसानों के लिए खतरे का संकेत है.

टिड्डी नियंत्रण के पुराने तरीके अब कारगर साबित नहीं हो पा रहे हैं
अपने पत्र में राजस्व मंत्री ने यह भी कहा है कि टिड्डी नियंत्रण के पुराने तरीके अब कारगर साबित नहीं हो पा रहे हैं और इनमें बदलाव की जरूरत है. अगर समय रहते टिड्डियों को नियंत्रित नहीं किया गया तो स्थितियां बिगड़ जाएंगी. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसे लेकर संवाद कायम करने की मांग की है ताकि टिड्डियों को उनके प्रजनन स्थल पर ही खत्म किया जा सके और किसानों को राहत मिल सके.

कृषि विभाग ने शुरू किए प्रयास
संभावित बड़े खतरे को देखते हुए कृषि विभाग ने अभी से टिड्डी नियंत्रण के प्रयास शुरू भी कर दिए हैं. टिडडी प्रभावित जिलों में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं. पाक सीमा से सटे श्रीगंगानगर और जैसलमेर के इलाकों में 464 हेक्टेयर क्षेत्र में रसायनों का छिड़काव किया गया है. राज्य सरकार ने केंद्र को पत्र लिखकर टिड्डी नियंत्रण के लिए 84 करोड़ 62 लाख की राशि उपलब्ध कराने की मांग की है. टिड्डी प्रकोप की आशंका के मद्देनजर लगातार सर्वे और मॉनिटरिंग की जा रही है.

COVID-19 के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने लागू किया राजस्थान महामारी अध्यादेश

Lockdown: SOG और भीलवाड़ा पुलिस की कार्रवाई, पौने दो करोड़ का पान मसाला जब्त

Tags: Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर