सुर्खियां: नई विधानसभा के पहले सत्र पर ड्रामा, पूर्व CM वसुंधरा राजे को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया

राजस्थान की राजधानी जयपुर से प्रकाशित प्रमुख समाचार पत्रों की सुर्खियों में जगह बनाने वाली खबरों में आज नई विधापसभा के पहले सत्र को लेकर विवाद और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को बीजेपी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया जाना शामिल हैं.

News18 Rajasthan
Updated: January 11, 2019, 9:33 AM IST
सुर्खियां: नई विधानसभा के पहले सत्र पर ड्रामा, पूर्व CM वसुंधरा राजे को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया
जयपुर से प्रकाशित प्रमुख समाचार पत्रों की सुर्खियां.
News18 Rajasthan
Updated: January 11, 2019, 9:33 AM IST
राजस्थान की राजधानी जयपुर से प्रकाशित प्रमुख समाचार पत्रों की सुर्खियों में जगह बनाने वाली खबरों में आज नई विधापसभा के पहले सत्र को लेकर विवाद और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को बीजेपी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया जाना शामिल हैं. साथ ही जैसलमेर में प्रसव के दौरान बच्चे के टुकड़े होने का मामला भी छाया हुआ है. उदयपुर में दो मासूम बच्चों की पिता के हाथों पटक कर मार डालने की घटना को भी सभी प्रमुख अखबारों ने जगह दी है.

राजस्थान पत्रिका ने बीजेपी के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को नई जिम्मेदारी के समाचार को 'वसुंधरा, शिवराज और रमन को बनाया राष्ट्रीय उपाध्यक्ष' शीर्षक से मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित किया है. अखबार ने लिखा है कि राष्ट्रीय परिषद की बैठक से एक दिन पहले यह फैसला लिया गया है. तीनों को लोकसभा चुनाव लड़ाया जा सकता है. दैनिक भास्कर ने लिखा है कि भाजपा ने आगामी लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे सहित 3 नए उपाध्यक्षों की नियुक्ति की है. राजे अब नेता प्रतिपक्ष की दौड़ से बाहर हो गई हैं.

यहां पढ़ें- स्वाइन फ्लू के मुख्य लक्षण और बचाव के उपाय

नई विधानसभा के पहले सत्र को लेकर दिनभर चले ड्रामा को दैनिक भास्कर ने अपनी लीड खबर बनाया है. भास्कर ने लिखा है कि अगर अध्यक्ष कैलाश चंद्र मेघवाल अनुमति नहीं देंगे तो विधानसभा सचिव सदन को आहूत करेंगे. इस खबर को 'विधानसभा अध्यक्ष बोले- मुझसे पूछा ही नहीं, 15 जनवरी से नहीं होने दूंगा सत्र; सरकार ने कहा- राज्यपाल आदेश दे चुके, अध्यक्ष को सत्र रोकने का हक  नहीं' शीर्षक से प्रकाशित किया है. इस पर राजस्थान पत्रिका ने खबर 'विधानसभा अध्यक्ष की नहीं चली, सत्र 15 से ही होगा' प्रकाशित की है. इसमें लिखा है, राज्यपाल ने विधानसभा अध्यक्ष के विरोध को दरकिनार किया है.

ये भी पढ़ें- राजस्थान में स्वाइन फ्लू की जांच और इलाज कहां उपलब्ध है? यहां पढ़ें- पूरी जानकारी
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर