लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव से पहले BJP की 'जयपुर सरकार' ने लगाई शराब पर पाबंदी

Bhawani Singh | News18 Rajasthan
Updated: January 17, 2019, 8:20 PM IST
लोकसभा चुनाव से पहले BJP की 'जयपुर सरकार' ने लगाई शराब पर पाबंदी
प्रतिकात्मक तस्वीर.

राजस्थान की राजधानी जयपुर के सामुदायिक भवनों में शादी या कोई भी कार्यक्रम करने वाले मांस और मदिरा का सेवन नहीं कर सकेंगे. जयपुर नगर निगम ने इस पर पांबदी लगा दी है.

  • Share this:
जयपुर में अब सामुदायिक भवनों में शादी या कोई भी कार्यक्रम करने वाले मांस और मदिरा का सेवन नहीं कर सकेंगे. सभी सामुदायिक भवनों में मांस और शराब के सेवन पर यह पांबदी शहरी सरकार यानी जयपुर नगर निगम ने लगाई है. कांग्रेस ने इस फैसले को जनहित के खिलाफ ठहराया और पुर्विचार की मांग की है. बता दें कि जयपुर नगर निगम में बीजेपी का बोर्ड है.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव: राष्ट्रवाद और गौ भक्ति के एजेंडे को हथिया रही है कांग्रेस?

जयपुर में सामुदायिक भवनों में शादी से लेकर पारिवारिक कार्यक्रम का ट्रेंड है. लेकिन अब उन लोगों के लिए बुरी खबर जो निगम के सामुदायिक भवन में कार्यक्रम में मांस और शराब परोसना चाहते हैं. निगम ने मांस, शराब और तंबाकू के सेवन पर पांबदी लगा दी है. जयपुर के महापौर ने कहा कि सामुदायिक भवनों में मांसाहार के सेवन से गंदगी होती है. आस पास के लोग शिकायत करते हैं. इसलिए रोक लगाई.

कई बार शिकायत आईं. अब सामुदायिक भवनों में हमने मांस शराब और तंबाकू के सेवन पर पांबदी लगा दी.
महेश कलवानी, अध्यक्ष लाईसेंस समिति जयपुर नगर निगम


कांग्रेस ने इस फैसले पर कड़ी आपत्ति जताई है. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने सिर्फ सियासी मकसद से फैसला किया है. कांग्रेस ने मांग की कि फैसले पर निगम पुनर्विचार करे. कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि इस फैसले से एक बड़ा वर्ग निगम के इन भवनों का उपयोग करने से वंचित हो जाएगा.

निगम का फैसला गलत है. हम मांग करते हैं , इस पर पुनिर्विचार कर बदला जाना चाहिए.
अर्चना शर्मा, प्रवक्ता, कांग्रेस


हैरानी ये कि निगम स्वच्छता के पैमाने पर अभी तक खरा नहीं उतर पाया. पिछले साल स्वच्छता सर्वेक्षण में जयपुर 39 वे स्थान पर था. स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर फिर सर्वे शुरू हो चुका है. लेकिन जयपुर में शौचालयों से लेकर सार्वजनिक स्थलों पर गंदगी का डेरा है.ये भी पढ़ें- SWINE FLU से लगातार हो रही मौतें, विभाग छिपा रहा आंकड़ा!

सवाल ये कि क्या ऐसे में इन सामुदायिक भवनों में शराब और मांसाहार पर रोक से गंदगी खत्म हो जाएगी? आखिर खान-पान पर पहला क्यों? वो तब जब कार्यक्रमों में ये आम हो चुका है. ऐसे में इस फैसले से शादी समारोह के लिए इन भवनों की मांग घटने का खतरा भी है. ऐसे में पहले से ही संकट से जूझ रहे इन भवनों का हालात और बिगड़ने का खतरा भी है. लेकिन इस फैसले के पीछे एक सियासी वजह भी नजर आ रही है.

ये भी पढ़ें- 'Little Boy' में नजर आएगी राजस्थान की देसी गर्ल, पढ़ें- कौन है रश्मि मिश्रा

राजस्थान में सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस के गाय को गोद लेने पर सम्मान का फैसला किया था. बीजेपी को शायद पलटवार के लिए नगर निगम नजर आया है. जयपुर नगर निगम में बीजेपी की सत्ता है. लोकसभा चुनाव से पहले ऐसे और फैसले हो तो हैरान मत होईए.

ये भी पढ़ें- 
ये भी पढ़ें- 'राजकुमारी' की लव स्टोरी का 21 साल बाद अंत! 
SWINE FLU से लगातार हो रही मौतें, विभाग छिपा रहा आंकड़ा!
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2019, 8:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर