होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान में शतक पार कर चुके बुजुर्गों की संख्या 14 हजार से भी ज्यादा, टॉप पर है ये जिला

राजस्थान में शतक पार कर चुके बुजुर्गों की संख्या 14 हजार से भी ज्यादा, टॉप पर है ये जिला

राजस्थान में सबसे ज्यादा झुंझुनूं जिले में 1688 शतायु बुजुर्ग हैं.

राजस्थान में सबसे ज्यादा झुंझुनूं जिले में 1688 शतायु बुजुर्ग हैं.

राजस्थान में 14 हजार से अधिक 100 साल या फिर उससे ज्यादा आयु के बुजुर्ग हैं. मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा प्रदेशभर में ...अधिक पढ़ें

जयपुर. राजस्थान में बुजुर्गो को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं. राजस्थान में 14 हजार बुजुर्गो की आयु 100 साल या फिर उससे भी ज्यादा है. ये आंकड़े चुनाव आयोग द्वारा कराए गए फिजिकल वैरीफिकेशन में सामने आए हैं. खास बात यह है कि प्रदेशभर में सबसे ज्यादा शतायु बुजुर्ग झुंझुनूं जिले में हैं.

चुनावी कवरेजों के दौरान मतदान वाले दिन मीडियाकर्मियों के कैमरे एक खास तस्वीर लेने के लिए जद्दोजहद करते नजर आते हैं. इसमें ज्यादा उम्र के बुजुर्गो द्वारा मतदान केन्द्रों पर पहुंच कर मतदान करने वाली फोटो सभी का ध्यान खिंचती है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि राजस्थान में 14 हजार से अधिक 100 साल या फिर उससे ज्यादा आयु के बुजुर्ग हैं. जीं हां, मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा प्रदेशभर में करवाए वरिष्ठ मतदाता के भौतिक सत्यापन में ये चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं. जिसके अनुसार प्रदेश के 33 जिलों में 100 साल या इससे अधिक आयु के 14 हजार 976 मतदाता हैं.

झुंझुनूं जिले में सबसे ज्यादा 1,688 शतायु बुजुर्ग

इन आंकडों के अनुसार इस आयु वर्ग के सबसे अधिक एक हजार 688 वृद्ध मतदाता तो सिर्फ झुंझुनू जिले में ही हैं. झुंझुनू के बाद जयपुर में एक हजार 126, उदयपुर में 968, भीलवाड़ा में 844, सीकर में 828 और पाली में 820 ऐसे मतदाता हैं, जिनकी आयु 100 वर्ष या इससे अधिक है. जानकारी के अनुसार प्रदेशभर में सबसे कम बारां में 73 मतदाता है, जबकी चूरू में 96, टोंक में 103, धौलपुर में 121, जैसलमेर में 153 मतदाता 100 वर्ष या इससे अधिक आयु के हैं. हाल ही में ऐसे वृद्ध मतदाताओं को सम्मानित किया गया था. खास बात यह है कि बहुत से मतदाताओं ने प्रथम चुनाव सन् 1952 में अपने मत का प्रयोग किया था.

80 प्लस के वोटर्स के लिए होम वोटिंग का भी प्रावधान

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने अनुसार मतदान प्रक्रिया पूरी तरह ऑनलाइन हो गई है. उन्होंने कहा कि आयोग द्वारा विभिन्न तरह के नवाचारों का परिणाम है कि राजस्थान देश में 96 प्रतिशत ऑनलाइन पंजीयन के साथ प्रथम स्थान पर है. गुप्ता ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 80 प्लस उम्र के सिटीजन मतदान के लिए होम वोटिंग का प्रावधान किया गया है. इसके तहत 12D का फॉर्म निर्वाचन की अधिसूचना जारी करने के पांच दिवस के भीतर भरा जाता है. होम वोटिंग के माध्यम से आयोग के प्रतिनिधि द्वारा 80 प्लस सिटीजन मतदाता के घर पर आकर उनका मतदान प्राप्त किया जाता है.

Tags: Jaipur news, Rajasthan elections, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें