लाइव टीवी

31 अक्टूबर को सुबह से थम जाएंगे एम्बुलेंसों के पहिए ! यूनियन ने दी चेतावनी

Sachin Sharma | News18 Rajasthan
Updated: October 28, 2019, 10:34 AM IST
31 अक्टूबर को सुबह से थम जाएंगे एम्बुलेंसों के पहिए ! यूनियन ने दी चेतावनी
यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि हाल ही में राज्य सरकार की ओर से जारी नई निविदा में वर्तमान में सेवारत एम्बुलेंस कर्मचारियों के लिए कोई भी प्रावधान नहीं रखा गया है. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

राजस्थान (Rajasthan) में आगामी 31 अक्टूबर को सुबह से एम्बुलेंसों (Ambulance) के पहिए थम जाएंगे ! राजस्थान एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन (Rajasthan Ambulance Employees Union) ने अपनी मांगों को लेकर 31 अक्टूबर से एम्बुलेंस सेवा ठप करने की चेतावनी (Warning) दी है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में आगामी 31 अक्टूबर को सुबह से एम्बुलेंसों (Ambulance) के पहिए थम जाएंगे ! राजस्थान एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन (Rajasthan Ambulance Employees Union) ने अपनी मांगों को लेकर 31 अक्टूबर से एम्बुलेंस सेवा ठप करने की चेतावनी (Warning) दी है. इंटीग्रेटेड एम्बुलेंस सेवा के तहत 108, 104 और बेस एम्बुलेंस सेवाएं शामिल हैं. उन्हें 31 अक्टूबर को सुबह 6 बजे से ठप (Stop) करने की चेतावनी दी गई है.

सरकार की ओर से जारी नई निविदा का है विरोध
यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि हाल ही में राज्य सरकार की ओर से जारी नई निविदा में वर्तमान में सेवारत एम्बुलेंस कर्मचारियों के लिए कोई भी प्रावधान नहीं रखा गया है. ऐसे में एम्बुलेंस कर्मचारियों के बेरोजगार होने का अंदेशा खड़ा हो गया है. इंटीग्रेटेड एम्बुलेंस सेवा के लिए आरएएस स्तर का एक रिसीवर नियुक्त किया जाए ताकि कोई भी एम्बुलेंस सेवा प्रदाता कंपनी एम्बुलेंस कर्मचारियों का शोषण ना कर सके.

यह भी मांगें हैं यूनियन की

बकौल वीरन्द्र सिंह शेखावत नई निविदा में एम्बुलेंस कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने और प्रतिवर्ष 10 फीसदी वेतन वृद्धि का प्रावधान करने की भी मांग रखी गई है. शेखावत ने मांग करते हुए कहा कि जिस भी स्थान पर एम्बुलेंस रखी जाती है वहां कर्मचारियों के रहने कमरे, बाथरूम और मूलभूत सेवाएं मुहैया करवाई जाए.

पहले भी कई बार एम्बुलेंस हड़ताल की पीड़ा झेल चुके हैं प्रदेशवासी
उल्लेखनीय है कि प्रदेश में जब-जब एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन ने हड़ताल की तब-तब मरीजों की जान पर बन आई है. प्रदेशभर में फैली ये एम्बुलेंस सेवाएं मेडिकल सर्विस की अहम कड़ी है. एम्बुलेंस की हड़ताल के कारण दूर दराज के लोगों को मरीजों को अस्पताल लाने के लिए साधन तक नहीं मिलते हैं. अगर मिलते भी हैं तो उनके मुंहमांगे किराए पीड़ितों की कमर तोड़कर रख देते हैं. वहीं दुर्घटना के मामलों में तो कई पीड़ित अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ देते हैं.
Loading...

निकाय चुनाव: हाईब्रिड फॉमूले पर सियासत जारी, मंत्री धारीवाल ने दिया ये बयान

राजस्थान की ट्रांसपोर्ट यूनियनों का फैसला, कोई भी ट्रक कश्मीर नहीं भेजेंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 28, 2019, 10:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...