Jaipur : बारिश से बिगड़े हालात पर शांति धारीवाल ने कहा - यह सब तो होता ही है
Jaipur News in Hindi

Jaipur : बारिश से बिगड़े हालात पर शांति धारीवाल ने कहा - यह सब तो होता ही है
धारीवाल ने कहा कि ये हमारा दुर्भाग्य है कि पिछली सरकार ने जो काम बकाया छोड़े हैं, उन्हें हमें पूरा करना होगा. (फाइल फोटो)

शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) ने ये भी कहा कि इन हालातों से निपटने के लिए कुछ काम की आवश्यकता है और वो किया भी जाएगा. उन्होंने कहा कि ऐसा कौन-सा शहर है, जहां इतनी बारिश होने के बाद पानी न रहा हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2020, 6:56 PM IST
  • Share this:
जयपुर. 14 अगस्त को जयपुर (Jaipur) में भारी बारिश (Heavy rain) हुई थी. इसकी वजह से जयपुर में रहने वालों की जान पर बन आई थी. लोगों की संपत्तियों का ठीक-ठाक नुकसान हुआ है. लेकिन, राजस्थान (Rajasthan) के नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) को लगता है कि ये सब तो होता ही रहता है. चाहे कुछ कर लो. लेकिन, 2 से 3 घंटे में सब साफ भी हो जाता हैं और ये कम बात नही हैं. हालांकि, शांति धारीवाल ने ये भी कहा कि इन हालातों से निपटने के लिए कुछ काम की आवश्यकता है और वो किया भी जाएगा. धारीवाल यही नहीं रुके, उन्होंने ये भी कहा कि ऐसा कौन-सा शहर है, जहां इतनी बारिश होने के बाद पानी न रहा हो. दरअसल, धारीवाल से रविवार को उनके निवास पर जेडीए की आवासीय योजनाओं की लांचिंग के बाद पत्रकारों ने इस मामले पर सवाल पूछा था. इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि ऐसा कोई मकान नहीं, जिसमें पानी का रिसाव 14 अगस्त की बारिश के दौरान न हुआ हो.

भाजपा पर धारीवाल का हमला

शांति धारीवाल ने भाजपा पर भी निशाना साधा है. धारीवाल ने कहा कि ये हमारा दुर्भाग्य है कि पिछली सरकार ने जो काम बकाया छोड़े हैं, उन्हें हमें पूरा करना होगा. उन्होंने भाजपा राज में जयपुर में शुरू किए गए कई निर्माण कार्यों को लेकर कहा कि उनकी डिजाइन में खामियां थीं, जिन्हें ठीक कर हमारी सरकार के कार्यकाल में पूरा किया जाएगा. उन्होंने कांग्रेस सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में शुरू किया गया हर काम पूरा हुआ है, कोई काम सरकार ने बकाया नहीं छोड़ा है.



निकाय चुनाव का फैसला कोर्ट और आयोग का काम
शांति धारीवाल से जब जयपुर, जोधपुर और कोटा में निकाय चुनावों को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसका फैसला हाईकोर्ट और चुनाव आयोग को करना है.

अभियान चलाया जाएगा

शांति धारीवाल ने कहा कि 'प्रशासन शहरों के संग' अभियान की तर्ज पर आगामी समय में अभियान भी चलाया जाएगा. जिससे जनता को राहत मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज