Home /News /rajasthan /

एक थी 'Sports University', कागजों में बनी और कागजों में ही बंद हो गई

एक थी 'Sports University', कागजों में बनी और कागजों में ही बंद हो गई

इस यूनिवर्सिटी की घोषणा पिछली गहलोत सरकार के दौ़रान वर्ष 2011-12 में की गई थी.

इस यूनिवर्सिटी की घोषणा पिछली गहलोत सरकार के दौ़रान वर्ष 2011-12 में की गई थी.

राजस्थान में एक यूनिवर्सिटी (University) ऐसी भी रही है जो कागजों में बनी और कागजों में ही बंद हो गई. मजे की बात यह है कि इस यूनिवर्सिटी के लिए जमीन का आवंटन (Land allocation) भी किया गया और कुलपति की नियुक्ति (Appointment of vice chancellor) भी.

अधिक पढ़ें ...
जयपुर. राजस्थान में एक यूनिवर्सिटी (University) ऐसी भी रही है जो कागजों में बनी और कागजों में ही बंद हो गई. मजे की बात यह है कि इस यूनिवर्सिटी के लिए जमीन का आवंटन (Land allocation) भी किया गया और कुलपति की नियुक्ति (Appointment of vice chancellor) भी. यह यूनिवर्सिटी दो-तीन साल तक कागजों (Papers) में सरपट दौड़ती रही. इस बीच कुलपति का कार्यकाल पूरा हो गया और इस यूनिवर्सिटी के सपने ने दम तोड़ दिया. अब राज्य सरकार उसे पुर्नजीवित (Resurrected) करने का प्रयास कर रही है.

झुंझुनू जिले के दोरासर में बननी थी 'स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी'
कागजों में चलकर कागजों में बंद होने वाला यह यूनिवर्सिटी है 'स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी'. यह वही स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी है जिसकी पूरी तस्वीर बनना तो दूर कभी अधूरी भी नहीं बन सकी. इस यूनिवर्सिटी की घोषणा पिछली गहलोत सरकार के दौ़रान वर्ष 2011-12 में की गई थी. इसके लिए बाकायदा 21 अगस्त 2013 में झुंझुनू जिले के दोरासर में 125 एकड़ जमीन आवंटन का आदेश भी निकाला गया और 25 नवंबर 2013 में कुलपति की नियुक्ति गई. कुलपति एलएस राणावत ने इसके लिए दोरासर का दौरा कर जमीनी हालात का जायजा लिया. लेकिन बीजेपी सरकार के दौरान इस यूनिवर्सिटी को लेकर बरते गए उदासीन रवैये के कारण इसका कैम्पस बनना तो दूर चार दीवारें भी खड़ी नहीं हो सकी. इस बीच वर्ष 2016 में कुलपति का कार्यकाल पूरा हो गया.

स्टेट स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट भी अस्तित्व में नहीं आ सका
कभी खेल परिषद के एक-दो कमरों में चलने वाली यूनिवर्सिटी बंद हो गई तो इसकी जगह पर स्टेट स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट बनाने की घोषणा की गई. इंस्टीट्यूट के लिए 31 करोड़ की बजट घोषणा के बावजूद उस पर भी कोई काम नहीं हो सका. अशोक गहलोत जब दोबारा सत्ता में लौटे तो बीते साल ही इस यूनिवर्सिटी को दोबारा शुरू करने की घोषणा की गई. पिछले माह संपन्न हुए राज्य खेलों की शुरुआत के दौरान सीएम अशोक गहलोत ने स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी का दोबारा जिक्र किया.

सीएम गहलोत ने यह कहा था
कार्यक्रम में संबोधन के दौरान सीएम ने कहा था कि 2012 में जब उनकी सरकार थी तब स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की घोषणा की गई थी. लेकिन उनकी सरकार जाने के बाद इस यूनिवर्सिटी पर कोई काम नहीं हो सका था. लिहाजा अब दोबारा यूनिवर्सिटी को शुरू किया सके या फिर एनआईएस पटियाला की तरह यहां भी कोई ऐसा संस्थान बने जो खेलों के प्रशिक्षण के लिए एक बड़े केन्द्र को तौर पर प्रतिष्ठा हासिल करे.





दुबारा अस्तित्व में आने की उम्मीद जगी है
राजस्थान में इस यूनिवर्सिटी की घोषणा समय ही गुजरात में स्वर्णिम गुजरात स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय स्थापित हुआ था. वहां आज बकायदा कोर्सेज चल रहे हैं और स्टूडेंट्स तालीम हासिल कर रहे हैं. लेकिन राज्य की स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी को आगे नहीं बढाया जा सका. अब मुख्यमंत्री की राज्य खेल महोत्सव में की गई घोषणा के बाद से ही इस यूनिवसिर्टी के दुबारा अस्तित्व में आने की उम्मीद जगी है.

खेल मंत्री ने कहा सरकार गंभीरता से काम कर रही है
खेल विभाग अपने प्रपोजल और प्रजेंटेशन सरकार तक पहुंचा चुका है. विभाग इस विश्वविद्यालय को झुंझुनू में ही खोलने को लेकर अपनी कवायद में जुटा है. उन्हें आगामी दिनों में इसके लिए बजट मिलने की उम्मीद बनी हुई हैं ताकि इस पर काम आगे बढ़ाया जा सके. खेल मंत्री अशोक चांदना का इस मामले में कहना है कि स्पोर्ट्स स्कूल से लेकर यूनिवर्सिटीज बनने से राज्य में खेलों का बेहतर माहौल बन सकेगा. इस पर सरकार गंभीरता से काम कर रही है.



Rajasthan Budget 2020: ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता को मिलेंगे 3 करोड़- CM गहलोत



सीएम गहलोत की कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, DA में की जबरदस्‍त वृद्धि

Tags: Ashok gehlot, Jaipur news, Rajasthan news, Sports news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर