मिशन वंदे भारत : विदेश से सिर्फ एक फ्लाइट आई आज, 148 प्रवासी पहुंचे जयपुर
Jaipur News in Hindi

मिशन वंदे भारत : विदेश से सिर्फ एक फ्लाइट आई आज, 148 प्रवासी पहुंचे जयपुर
आज विदेश से सिर्फ एक फ्लाईट पहुंची जयपुर.

इस बात का पूरा ध्यान रखा गया है कि घरेलू उड़ानों के यात्री विदेश से आए प्रवासियों के सपंर्क में न आएं. लिहाजा मिशन वंदे की फ्लाइट्स के लिए अलग से अराइवल हॉल बनाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 10, 2020, 10:30 PM IST
  • Share this:
जयपुर. मिशन वंदे भारत (Mission Vande Bharat) के तहत विदेशों से फ्लाइट्स पहुंचने का सिलसिला जयपुर एयरपोर्ट (Jaipur Airport) पर लगातार जारी है. हालांकि 10 जुलाई को सिर्फ एक ही फ्लाइट रस-अल-खैमाम से जयपुर पहुंची, जिसमें 148 प्रवासी जयपुर पहुंचे हैं. सभी को जरूरी औपचारिकता के बाद क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine center) के लिए भेज दिया गया. ये सभी राजस्थान (Rajasthan) के अलग अलग जिलों के रहने वाले है.

घरेलू यात्रियों से प्रवासियों को रखा जा रहा दूर

10 जुलाई को विदेश से एकमात्र फ्लाइट जयपुर आई. एयरपोर्ट पर घरेलू उड़ानों और मिशन वंदे के तहत आने वाली फ्लाइट्स के अलग अलग इंतजाम किए गए हैं. इस बात का पूरा ध्यान रखा गया है कि घरेलू उड़ानों के यात्री विदेश से आए प्रवासियों के सपंर्क में न आएं. लिहाजा मिशन वंदे की फ्लाइट्स के लिए अलग से अराइवल हॉल बनाया गया है. चूंकि इन दिनों में विदेशों से फ्लाइट्स ज्यादा आने लगी हैं. इसलिए मेडिकल स्टाफ से लेकर कर्मचारियों की संख्या में इजाफा किया गया है. गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में जयपुर एयरपोर्ट स्टाफ के कर्मचारी भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं. लिहाजा ज्यादा सतर्कता बरती जा रही है.



एयरपोर्ट के अंदर ही हैं होटल के काउंटर
हाल ही में दुबई से आई फ्लाइट्स में 32 किलो सोना पकड़े जाने के बाद एयरपोर्ट पर सतर्कता और ज्यादा बढ़ा दी गई है और मिशन वंदे से आने वाले हर प्रवासी पर पैनी नजर रखी जा रही है. इमीग्रेशन की औपचारिकता पूरी करने के बाद यात्री के साथ आए लगेज को पूरी तरह सैनेटाइज किया जाता है. यात्री की थर्मल स्कैनिंग होती है. इसके बाद बसों के जरिए इन्हें क्वारंटाइन के लिए होटलों में भेजा जाता है. एयरपोर्ट के अंदर ही होटल के काउंटर लगाए गए हैं. यात्री इन काउंटर पर किराए के बारे में जानकारी ले सकता है. जो यात्री या मजदूर वर्ग किराया देने में सक्षम नहीं है उन्हें जेडीए के बनाए सेंटर में भेजा जाता है.

अप्रवासियों के लिए 40 होटल

फिलहाल राज्य सरकार की तैयारियां विदेश से आने वाले प्रवासियों के लिए मुकम्मल है. राज्य के 40 ऐसे होटल चिन्हित किए गए हैं, जिनमें विदेश से आए प्रवासी अपनी मर्जी से क्वारंटाइन हो सकते हैं. छात्रों के लिए किराया बेहद कम रखा गया है, जबकि खाड़ी देशों से आने वाले ज्यादातर मजदूर होटलों में रुकने की बजाय जेडीए के क्वारंटाइन सेंटर में जाना ज्यादा पंसद कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading