अपना शहर चुनें

States

ऑपरेशन फ्लैश आउट: राजस्थान में जेलों से 26 मोबाइल और 14 सिम बरामद, 4 जेलर बदले, 1 कांस्टेबल बर्खास्त

जेल महानिदेशक राजीव दासोत ने बताया कि ऑपरेशन फ्लैश आउट का मकसद जेलों की पूरी तरह से सफाई करना है.
जेल महानिदेशक राजीव दासोत ने बताया कि ऑपरेशन फ्लैश आउट का मकसद जेलों की पूरी तरह से सफाई करना है.

Operation Flush Out: डीजी जेल राजीव दासोत ने जेलों की सफाई के लिये 'ऑपरेशन फ्लैश आउट' चलाकर भ्रष्ट कर्मचारियों (Corrupt employees) को उनको अंजाम तक पहुंचाने का काम शुरू कर दिया है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की जेलों में अब आपराधिक साजिश रचना आसान नहीं होगा. जेलों में बंद कैदियों को मोबाइल और ड्रग्स (Mobiles and drugs) पहुंचाने वाले जेलकर्मियों पर कार्रवाई का डंडा चलना शुरू हो गया है. डीजी जेल राजीव दासोत द्वारा चलाए जा रहे 'ऑपरेशन फ्लैश आउट' (Operation Flush Out)  के नतीजे अब सामने आने लगे हैं. इस ऑपरेशन के तहत न केवल प्रदेश की जेलों में सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है, बल्कि कैदियों तक इन चीजों को पहुंचाने में लिप्त जेलकर्मियों पर गाज गिरना भी शुरू हो गई है. इसके तहत अब तक एक कांस्टेबल को बर्खास्त कर 4 जेलरों का (Transfer) कर दिया गया है.

26 मोबाइल,10 चार्जर और 14 सिमकार्ड बरामद
ऑपरेशन फ्लश आउट के तहत प्रदेशभर की 145 जेलों में सर्च ऑपरेशन चलाकर अब तक 26 मोबाइल,10 चार्जर, 14 सिमकार्ड, 7 ईयरफोन, 5 डेटा केबल बरामद की जा चुकी है. वहीं पूर्व में कुख्यात बंदी लॉरेंस विश्नोई के कब्जे से एक मोबाइल, इयरफोन और 4 डाटा केबल भी बरामद की गई थी. इसी प्रकार से प्रतापगढ़ जेल से 5 मोबाइल फोन बरामद किए गए थे. इन मामलों में कैदियों के खिलाफ संबंधित थानों में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है. महानिदेशक जेल राजीव दासोत ने बताया कि प्रदेश में 105 जेल और 40 उप कारागृह हैं. 31 दिसंबर तक इन जिलों में लगातार ऑपरेशन फ्लश आउट के तहत आकस्मिक तलाशी करने के निर्देश दिए गए हैं. कुख्यात बंदियों को अन्य जेलों में शिफ्ट करने पर भी विचार चल रहा है.

Weather alert: राजस्थान में अगले 3-4 दिन शीतलहर और कोहरे की चेतावनी, पड़ सकती है कड़ाके की सर्दी



अब तक ये कार्रवाइयां की गई हैं
जोधपुर जेल में 80 ग्राम अफीम ले जाने के मामले में एक कांस्टेबल को बर्खास्त किया जा चुका है. जबकि भादरा, बांदीकुई, छबड़ा और श्रीगंगानगर जेल के जेलर के खिलाफ शिकायत मिलने पर उनका तबादला कर दिया गया है. इनके तबादले भी दूरी पर किए गए हैं और इन्हें स्वतंत्र प्रभार भी नहीं दिया गया है. जेल महानिदेशक राजीव दासोत ने बताया कि ऑपरेशन फ्लैश आउट का मकसद जेलों की पूरी तरह से सफाई करना है. इस ऑपरेशन की खासियत यह है कि इसका उद्देश्य सिर्फ जेलों में अवांछनीय वस्तुएं बरामद करना भर नहीं है. बल्कि कैदियों तक इन वस्तुओं को पहुंचाने वाले भ्रष्ट जेलकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करना भी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज