• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • राजस्थान: बिना संगठन के कांग्रेस, पार्टी कार्यक्रम कमजोर, अजय माकन के सामने कुछ इस तरह बयां किए हालात

राजस्थान: बिना संगठन के कांग्रेस, पार्टी कार्यक्रम कमजोर, अजय माकन के सामने कुछ इस तरह बयां किए हालात

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) में अब तक संगठनात्मक नियुक्तियां नहीं हो पाई हैं. पिछले करीब 11 महीनों से जिलों में कांग्रेस बिना संगठन के ही चल रही है, हालांकि प्रदेश कार्यकारिणी में नई नियुक्तियां जरुर हुई हैं. फिलहाल जिलों में कांग्रेस अभी तक निवर्तमान कार्यकारिणियों से ही काम चला रही है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में पिछले साल खड़े हुए सियासी संकट के बाद कांग्रेस (Congress) के सभी जिलों की कार्यकारिणियां भंग कर दी गईं थीं. तब से लेकर अब तक कांग्रेस में संगठनात्मक नियुक्तियां नहीं हो पाई हैं. यानि पिछले करीब 11 महीनों से जिलों में कांग्रेस बिना संगठन के ही चल रही है, हालांकि प्रदेश कार्यकारिणी में नई नियुक्तियां जरुर हुई हैं. फिलहाल जिलों में कांग्रेस अभी तक निवर्तमान कार्यकारिणियों से ही काम चला रही है.

नियुक्तियों में देरी होने से कार्यकर्ताओं का जोश ठंडा होता जा रहा है. कार्यकर्ताओं में मायूसी होने से पार्टी के कार्यक्रमों में भी ज्यादा मजबूती नहीं आ पा रही है. महंगाई और कोरोना जैसे मामलों को लेकर पार्टी विशेष अभियान चला रही है, लेकिन उनमें पार्टी कार्यकर्ताओं की अपेक्षित भागीदारी देखने को नहीं मिल रही है. हाल ही में प्रदेश प्रभारी अजय माकन द्वारा ली गई पार्टी की बैठक में भी यह मसला उठा था. प्रदेश उपाध्यक्ष रामलाल जाट ने बैठक में माकन के सामने कहा था कि नियुक्तियां जल्द की जानी चाहिए, क्योंकि देरी होने से कार्यकर्ताओं का जोश खत्म हो रहा है.

अब परिवारवाद का उठा मसला

पार्टी में संगठनात्मक नियुक्तियों की बात बार-बार उठ रही है और बार-बार इसमें नए-नए पेंच भी सामने आ रहे हैं. पहले जिलाध्यक्षों के नामों के पैनल को लेकर कई जिलों में गहलोत-पायलट खेमे के बीच खींचतान देखने को मिली और अब इसमें परिवारवाद का नया पेंच सामने आ गया है. अजय माकन की मीटिंग में महिला कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष रेहाना रियाज ने नियुक्तियों में परिवारवाद को लेकर आपत्ति जताई. उन्होंने माकन से कहा कि कुछ जिलों में एक ही परिवार को सभी पद दिए जा रहे हैं जो उचित नहीं है. हालांकि रेहाना रियाज का इशारा चूरू के मंडेलिया परिवार की ओर था, लेकिन प्रदेश के कुछ और जिलों में भी इस तरह के हालात हैं.

अब जल्द नियुक्तियां संभव

प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने नियुक्तियों को लेकर सीएम गहलोत से चर्चा की है और जल्द इसका नतीजा आने की बात भी कही है. पार्टी में अब जिस तरह से हलचल है उससे लग रहा है कि नियुक्तियां जल्दी होंगी और 11 महीने का लम्बा इंतजार खत्म होगा. अभी निवर्तमान कार्यकारिणियां काम तो कर रही हैं, लेकिन कार्यकर्ता उत्साह से लबरेज नहीं हैं. पार्टी में नई नियुक्तियां होंगीं तो कार्यकर्ताओं का जोश जगेगा और पार्टी के कार्यक्रमों में मजबूती आएगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज