लाइव टीवी

पद्मश्री अवार्ड: प्रगतिशील किसान सूंडाराम समेत प्रदेश की चार हस्तियों के नाम का ऐलान
Jaipur News in Hindi

News18 Rajasthan
Updated: January 25, 2020, 8:49 PM IST
पद्मश्री अवार्ड: प्रगतिशील किसान सूंडाराम समेत प्रदेश की चार हस्तियों के नाम का ऐलान
किसान सूंडाराम पूर्व में भी कई राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पुरस्कारों से नवाजे जा चुके हैं.

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाले राजस्थान (Rajasthan) की चार हस्तियों को पद्मश्री अवार्ड (Padmashree Award) देने की घोषणा (Declaration) की गई है.

  • Share this:
जयपुर. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाले राजस्थान (Rajasthan) की चार हस्तियों को पद्मश्री अवार्ड (Padmashree Award) देने की घोषणा (Declaration) की गई है. इनमें खेती-किसानी में नवाचार कर देशभर में अपनी पहचान बना चुके प्रदेश के प्रगतिशील किसान सूंडाराम (Kisan Sundaram) समेत भजन गायक मुन्ना मास्टर (Munna master), स्वच्छता के लिए समर्पित ऊषा देवी (Usha Devi) और पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्यरत हिम्म्तराम भांभू (Himmatram Bhambhu) शामिल हैं. पद्मश्री अवार्ड के लिए चुने गए ये सभी लोग जमीनी स्तर पर काम करने वाले हैं. वर्ष 2020 में कुल 21 लोगों को पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा.

सूंडाराम किसानों के लिए आदर्श हैं
पद्मश्री अवार्ड के लिए चुने गए प्रगतिशील किसान सूंडाराम सीकर जिले के दांता इलाके के रहने वाले हैं. सूंडाराम ने कम पानी में पौधे लगाने की तकनीक पर काम किया है. सूंडाराम पूर्व में भी कई राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पुरस्कारों से नवाजे जा चुके हैं. वे कम पानी की तकनीक से अब तक करीब 50 हजार पेड़ लगा चुके हैं. सूंडाराम किसानों के लिए आदर्श हैं. पद्मश्री अवार्ड की इस सूची में शामिल मुन्ना मास्टर मुस्लिम भजन गायक हैं. मुन्ना मास्टर जयपुर के बगरू के रहने वाले हैं. भजन गायन में उनकी अपनी अलग शैली है. उनकी श्री श्याम सुरभी वंदना किताब क्षेत्र में काफी प्रसिद्ध है. मुन्ना मास्टर संस्कृत के अच्छे जानकार हैं.

भांभू ने रेगिस्तान में लगवाए लाखों पेड़

वहीं इस सूची में शामिल सामाजिक कार्यकर्ता 53 वर्षीय ऊषा देवी स्वच्छता के कार्य के लिए समर्पित हैं. वे मैला ढोने वालों के लिए काम करती हैं. इसी तरह से रेगिस्तान में हरियाली के लिए संघर्ष करने वाले हिम्मतराम भांभू ने खुद को पर्यावरण संरक्षण के लिए बरसों से झौंक रखा है. भांभू को सूखे रेगिस्तान में लाखों पेड़ लगवाने का श्रेय जाता है. वे पशु-पक्षियों के संरक्षण के कार्य को बढ़ावा देने के साथ ही सामाजिक बुराइयों को जड़ से समाप्त करने लिए भी लगातार जुटे रहते हैं.

ये भी पढ़ें--

राजस्थान की गहलोत सरकार ने CAA, NRC और NPR के खिलाफ पास किया संकल्पगणतंत्र दिवस: आशु सिंह राठौड़ को AVSM की घोषणा, राष्ट्रपति प्रदान करेंगे पदक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 8:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर