• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • राजस्थान पंचायतीराज चुनाव: जानें कब तक होगी घोषणा और क्या हैं जमीनी हालात

राजस्थान पंचायतीराज चुनाव: जानें कब तक होगी घोषणा और क्या हैं जमीनी हालात

पहले परिसीमन और अन्य कानूनी पचड़ों के कारण इनके चुनाव अटके हुये थे.

पहले परिसीमन और अन्य कानूनी पचड़ों के कारण इनके चुनाव अटके हुये थे.

Rajasthan Panchayati Raj Election: राजस्थान के 12 जिले बेसब्री से पंचायतीराज संस्थाओं के चुनावों की बाट जोह रहे हैं. वहीं बदले रानजीतिक परिदृश्य में राज्य चुनाव आयोग ने अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं. अगस्त या सितंबर में चुनाव कार्यक्रम घोषित हो सकता है.

  • Share this:
जयपुर. राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के शेष रहे 12 जिलों के जिला परिषद-पंचायत समिति के चुनाव (Rajasthan Panchayati Raj Election) कराने की तैयारियां तेज कर दी हैं. राजस्थान में गहलोत और पायलट के बीच चली चल रही तनातनी के बीच अब प्रदेश का राजनीतिक परिदृश्य (Political Scenario) पूरी तरह बदल गया है. अब यह तय माना जा रहा है कि अगस्त के पहले सप्ताह में या फिर सितंबर में 12 जिलों का पंचायतराज चुनाव का कार्यक्रम जारी हो सकता है. ग्रामीण एवं पंचायती राज विभाग ने राज्य निर्वाचन आयोग की चिट्ठी के बाद प्रदेश के संबंधित जिला कलेक्टर्स को 25 जून तक पुनः आरक्षण की लॉटरी निकालने के निर्देश दिए थे. विभाग के निर्देश के बाद जिलों में पंचायतराज चुनावों से जुड़े कामकाज को काफी हद तक पूरा कर लिा गया है.

माना जा रहा है कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच चल रहे सियासी घमासान के कारण बदले सियासी हालात में राज्य सरकार इन 12 जिलों में पंचायत चुनाव कराने का विरोध नहीं करेगी. अभी तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा कोरोना की वजह से पंचायत चुनाव का कराने का विरोध करते रहे हैं, लेकिन अब प्रदेश का राजनीतिक परिदृश्य बदल गया है. कोरोना केस भी कम हो रहे हैं. मुख्यमंत्री 2 महीने के लिए सियासी क्वारंटाइन है. इस पूरी कवायद को मंत्रिमंडल विस्तार से जोड़कर देखा जा रहा है.

प्रदेश के इन 12 जिलों में होने हैं चुनाव
राज्य के अलवर, करौली, कोटा, सवाई माधोपुर, बारां, दौसा, भरतपुर, धौलपुर, जयपुर, जोधपुर, सिरोही और श्रीगंगानगर के जिला परिषद एवं पंचायती समिति सदस्यों के चुनाव कराये जाने हैं. पहले परिसीमन और अन्य कानूनी पचड़ों के कारण इनके चुनाव अटके हुये थे. उसके बाद कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आ जाने के कारण चुनाव प्रक्रिया अटक बीच में ही अटक गई थी. इन एक दर्जन जिलों में लोग बेहद उत्सुकता के साथ इन चुनावों का इंतजार कर रहे हैं. इन जिलों में पंचायती राज संस्थाओं का कामकाज प्रशासक संभाल रहे हैं. चुनाव के अभाव में ग्रामीण इलाकों में काफी काम अटका हुआ है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज