Rajasthan: अनलॉक में भी नहीं उबर पाया जयपुर एयरपोर्ट, फ्लाइट्स उड़ान को तैयार, लेकिन यात्रियों का टोटा
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: अनलॉक में भी नहीं उबर पाया जयपुर एयरपोर्ट, फ्लाइट्स उड़ान को तैयार, लेकिन यात्रियों का टोटा
22 मई से लेकर आज तक एक भी बार सभी शिड्यूल 24 फ्लाइट्स ने जयपुर एयरपोर्ट से उड़ान नहीं भरी.

वर्तमान में लगभग सभी फ्लाइट्स 20 से 25 यात्रियों को लेकर उड़ान भर रही है. जयपुर एयरपोर्ट पर कभी टिकट को लेकर मारामारी रहती थी उसी एयरपोर्ट पर ये दिन भी आया कि जब एक बार जयपुर से आगरा के लिए एक प्लेन ने सिर्फ एक यात्री को लेकर उड़ान भरी.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना (COVID-19) के डर के बीच जिंदगी आहिस्ता आहिस्ता पटरी पर लौट रही है. कोरोना कब खत्म होगा कोई नहीं जानता लेकिन इसके चलते जरूरी काम रूक नहीं सकते इसलिए लॉकडाउन (Lockdown) में छूट के साथ साथ वो सभी ज़रूरी संस्थाएं खुल गई हैं जिनका आम जिदंगी से रोजमर्रा का काम पड़ता है. इसी कड़ी में देश के घरेलू एयरपोर्ट भी शामिल है लेकिन इन पर भी वो पहले वाली रौनक नज़र नहीं आती.

गायब है सेलीब्रिटी का मेला
जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से कोरोना से पहले रोजना तकरीबन 70 घरेलू और इंटरनेशनल फ्लाइट्स उड़ान भरती थी. यहां सेलीब्रिटी का मेला लगा रहता था. यात्री टिकट ना मिलने से परेशान थे और शिड्यूल में रोज़ इजाफा हो रहा था. लेकिन कोरोना के बाद जैसे एयरपोर्ट को किसी की नज़र लग गई. अब ना वो पहले जैसी रौनक है और ना हस्तियों का आना जाना. 22 मई से केन्द्र सरकार ने घरेलू उड़ानों को उड़ान भरने की अनुमति दी थी. अनुमति मिलने के बाद सभी एयरलाइन्स कंपनियों में खुशी की लहर थी और वे अपने घाटे की भरपाई करने में जुट गई थी, लेकिन नतीजा बिल्कुल उल्टा निकला.

Rajasthan Crisis: सचिन पायलट कैम्प से फिर सुलह की कोशिश! CWC सदस्य रघुवीर मीणा ने दिये संकेत
फ्लाइट्स तो उड़ान के लिए तैयार है लेकिन यात्री नदारद है


वर्तमान में लगभग सभी फ्लाइट्स 20 से 25 यात्रियों को लेकर उड़ान भर रही है. जयपुर एयरपोर्ट पर कभी टिकट को लेकर मारामारी रहती थी उसी एयरपोर्ट पर ये दिन भी आया कि जब एक बार जयपुर से आगरा के लिए एक प्लेन ने सिर्फ एक यात्री को लेकर उड़ान भरी. 22 मई के बाद जयपुर एयरपोर्ट पर 22 से 24 फ्लाइट्स का नियमित शिड्यूल बना. लेकिन 22 मई से लेकर आज तक एक भी बार सभी शिड्यूल 24 फ्लाइट्स ने जयपुर से उड़ान नहीं भरी. रोजाना 6 से 12 फ्लाइट्स का रद्द होना अब आम बात हो गई है.

यात्रियों को कोई भी ऑफर देने के मूड में नहीं हैं एयरलाइंस कंपनियां
वहीं पहले से घाटे में चल रही एयरलाइन्स यात्रियों को किसी ऑफर देने के मूड में नज़र नहीं आ रही है. उल्टा अगर यात्री टिकट रद्द करवाता है तो उसे पैसे रिफंड करने की बजाय दूसरी फ्लाइट और दूसरी तारीख का विकल्प दिया जा रहा है. कोरोना का भय इस कदर हावी है कि जब तक बहुत ज़रूरी ना हो तो कोई यात्रा नहीं कर रहा. कई बार यात्री टिकट तो बुक करवा लेता है लेकिन कोरोना के डर से अपनी टिकट उड़ान से पहले रद्द करवा लेता है. इस समय घरेलू उड़ानों के अलावा जयपुर एयरपोर्ट पर वंदे भारत मिशन की फ्लाइट्स का भी आवागमन है. जयपुर एयरपोर्ट ने घरेलू उड़ानों और मिशन वंदे के अराइवल का इंतज़ाम अलग अलग किया हुआ है ताकि दोनों उड़ानों के यात्री एक दूसरे के संपर्क में ना आए.

Rajasthan crisis: BJP के 40 विधायकों से अशोक गहलोत कैंप ने साधा संपर्क! अब आगे क्‍या होगा?

रविवार को भी चार फ्लाइट्स रद्द हुई
फिलहाल इंतज़ार इस बात का है कि हवाई यात्रा फिर से पटरी पर लौटे क्योंकि एयरलाइन्स कंपनियां लगातार नुकसान उठा रही है. 9 अगस्त को भी जयपुर एयरपोर्ट से 20 फ्लाइट्स ने ही उड़ान भरी और 4 फ्लाइट फिर रद्द रही. जबकि हमेशा की तरह 24 फ्लाइट्स का शिड्यूल बना था. एयरपोर्ट की ताजा हालात लॉकडाउन से पहले से बिल्कुल अलग हैं. अब इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर गिने चुने लोग नज़र आते हैं या फिर यदा कदा विधायकों का बाड़ेबंदी के लिए जमावड़ा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज