पहलू खान Mob Lynching: SIT रिपोर्ट में खुलासा- पुलिस की जांच में थीं खामियां

Rakesh Gusai | News18 Rajasthan
Updated: September 5, 2019, 9:41 PM IST
पहलू खान Mob Lynching: SIT रिपोर्ट में खुलासा- पुलिस की जांच में थीं खामियां
देशभर में बहुचर्चित रहे राजस्थान के अलवर जिले के पहलू खां मॉब लिचिंग मामले में गठित एसआईटी ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) भूपेन्द्र सिंह यादव को सौंप दी है. फाइल फोटो।

देशभर में बहुचर्चित रहे राजस्थान के अलवर (Alwar) जिले के पहलू खां मॉब लिचिंग (Pehlu Khan Mob Lynching Case) मामले में गठित एसआईटी (SIT) ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट पुलिस महानिदेशक (Director General of police) भूपेन्द्र सिंह यादव को सौंप दी है.

  • Share this:
देशभर में बहुचर्चित रहे राजस्थान के अलवर (Alwar) जिले के पहलू खान मॉब लिचिंग (Pehlu Khan Mob Lynching Case) मामले में गठित एसआईटी (SIT) ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट पुलिस महानिदेशक (Director General of police Bhupendra Singh Yadav) भूपेन्द्र सिंह यादव को सौंप दी है. एडीजी (क्राइम) बीएल सोनी (ADG-Crime BL Soni) और एसआईटी की टीम को लीड कर रहे एसओजी के डीआईजी नितिनदीप ब्लग्गन (SOG DIG Nitindeep Blagn) ने यह रिपोर्ट गुरुवार शाम को डीपीजी को सौंपी. रिपोर्ट सौंपने से पहले एडीजी क्राइम ने इसका गंभीरतापूर्वक अध्ययन  किया. एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में पूर्व में मामले में पुलिस जांच में रही किन खामियों को सामने रखा है.

गत 14 अगस्त को आया था कोर्ट का फैसला 
अलवर में करीब सवा दो साल पहले 1 अप्रैल, 2017 को हरियाणा के नूंह मेवात निवासी पहलू खान मॉब लिंचिंग का शिकार हुआ था. उसके बाद उसकी मौत हो गई थी. इस मामले में गत 14 अगस्त को कोर्ट का फैसला आया था. कोर्ट ने 6 आरोपियों को बरी कर दिया था. इसमें कोर्ट में चालान के बाद नियमित सुनवाई हुई थी, लेकिन पुलिस जांच में बहुत सी ऐसी खामियां रह गईं थीं, जिनके कारण कोर्ट में पहलू खान का पक्ष कमजोर पड़ा. आखिरकार संदेह के लाभ पर आरोपी बरी हो गए.

एसआईटी को सौंपा गया था जिम्मा

कोर्ट के फैसले के दो दिन बाद ही सीएम अशोक गहलोत ने आला अधिकारियों की बैठक ली थी. बैठक में पहलू केस मामले की अपील करने और एसआईटी बनाने पर फैसला किया गया था. उसके बाद तत्काल एसआईटी का गठन किया गया. एसआईटी को मामले की जांच में रही खामियों और अनियमितताओं को चिन्हित करने का जिम्मा सौंपा गया था. इस रिपोर्ट में जांच में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों की जिम्मेदारी तय गई है. एसआईटी ने केस से जुड़े वो सबूत भी जुटाए हैं जो पुलिस जांच में इकट्ठे नहीं किए गए थे.

डीआईजी (एसओजी) को दी गई थी कमान
एसआईटी को पूरे मामले की जांच कर 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देनी थी. एडीजी क्राइम बीएल सोनी की निगरानी में गठित की गई एसआईटी को लीड करने की जिम्मेदारी डीआईजी (एसओजी) नितिनदीप ब्लग्गन दी गई. उनकी टीम में सीआईडी (सीबी) एसपी समीर कुमार सिंह और एएसपी विजिलेंस समीर दुबे शामिल किया गया था.
Loading...

पहलू खान मॉब लिंचिंग केस: SIT 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देगी

पहलू खान मॉब लिचिंग केस, एसआईटी जुटी जांच में

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलवर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 7:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...