• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Explained: सचिन पायलट की राहुल गांधी से मुलाकात के बाद क्यों खुश है उनका खेमा?

Explained: सचिन पायलट की राहुल गांधी से मुलाकात के बाद क्यों खुश है उनका खेमा?

पायलट कैम्प के उत्साह का बड़ा कारण उनकी वो उम्मीद है जिसमें उनका मानना कि उनके नेता का पुराना रुतबा लौटने वाला है.

पायलट कैम्प के उत्साह का बड़ा कारण उनकी वो उम्मीद है जिसमें उनका मानना कि उनके नेता का पुराना रुतबा लौटने वाला है.

Sachin Pilot and Rahul Gandhi Meeting: सचिन पायलट की पिछले दिनों राहुल गांधी से हुई मुलाकात के बाद उनके खेमे की उम्मीदें जवां हो गई हैं. लंबे समय से राजस्थान के सियासी झगड़े के समाधान की राह ताक रहे पायलट समर्थकों को उम्मीद है कि जल्द ही उनके नेता का पुराना रुतबा लौटेगा.

  • Share this:

    जयपुर. कांग्रेस के पंजाब संकट (Punjab Crisis) के समाधान के बाद राजस्थान में सचिन पायलट कैम्प (Sachin Pilot Camp) बेसब्री से यहां के झगड़े के समाधान की उम्मीद लगाये बैठा है. सूत्रों की मानें तो राजस्थान के विवाद (Rajasthan Political Crisis) के समाधान की भी स्क्रिप्ट लिखी जा चुकी है. बस उसे अमल में लाने का इंतजार है. बताया जा रहा है कि पार्टी राजस्थान के समाधान के लिये सीएम अशोक गहलोत के स्वस्थ होने का इंतजार कर रही थी. मुख्यमंत्री गहलोत अब स्वस्थ हो चुके हैं और वे नियमित कामकाज करने लग गये हैं. अब कांग्रेस नेतृत्व की नजरें जल्द ही राजस्थान के राजनीतिक हालात सुधारने पर है. पंजाब में सीएम पद से कैप्टन अमरिंदर सिंह की विदाई और पार्टी अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के पावरफुल होने से पायलट कैम्प की भी उम्मीदें जवां हो चुकी है.

    पायलट की पिछले दिनों 17 सितंबर को दिल्ली में राहुल गांधी से हुई मुलाकात के बाद धीरे-धीरे सियासी समीकरणों में बदलाव आता बताया जा रहा है. हालांकि खुले तौर पर कोई नेता इसे स्वीकार नहीं कर रहा है लेकिन पायलट खेमा जबर्दस्त उत्साहित है. पार्टी सूत्रों का दावा है कि राहुल और पालयट की मुलाकात के दौरान जिन तीन अहम मुद्दों पर चर्चा हुई थी उनमें एक पायलट की पार्टी में भूमिका का था. पायलट समर्थकों का दावा कि यह मुलाकात जरुर रंग लायेगी.

    Congress Politics: पंजाब के बाद अब ऑपरेशन राजस्थान, पायलट की राहुल गांधी से मुलाकात के बाद चर्चा तेज

    पायलट से एक साल बाद मिले राहुल
    दोनों नेताओं की यह मुलाकात इसीलिये भी अहम मानी जा रही है क्योंकि पायलट की बगावत के बाद गत एक साल से राहुल उनसे मिले नहीं थे. लेकिन पंजाब के घटनाक्रम के तत्काल बाद उनकी राहुल से मुलाकात होना कई सियासी समीकरण बदलने के संकेत हैं. पायलट और राहुल के बीच करीब डेढ़ घंटे तक हुई इस मुलाकात के दौरान राजस्थान कांग्रेस के दो बड़े विवाद संगठन और मंत्रिमंडल में बदलावों पर भी खुलकर चर्चा हुई थी.

    जब इंदिरा गांधी सरकार ने Jaigarh Fort का खजाना खोजने के लिए बुलाई थी सेना

    लौटेगा पायलट का पुराना रुतबा?

    बहरहाल पायलट कैम्प के उत्साह का बड़ा कारण उनकी वो उम्मीद है जिसमें उनका मानना कि उनके नेता का पुराना रुतबा लौटने वाला है. इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से हुई बातचीत से पायलट खेमा मानकर चल रहा है कि बात अब कुछ और आगे बढ़ी है. पायलट व राहुल की मुलाकात और सोनिया व गहलोत की बातचीत के बाद अभी दोनों खेमे ‘वेट एंड वॉच’ कर रहे हैं. कोई खुलकर बोल नहीं रहा है. पंजाब के मसले पर भी सिवाय सीएम गहलोत के किसी बड़े ने नेता कोई बयान नहीं दिया. हां, यह जरुर है कि पंजाब के घटनाक्रम के बाद बीजेपी ने गहलोत पर हमलावर होने की कोशिश की है. लेकिन पायलट और राहुल की मुलाकात अपना कितना रंग दिखा पायेगी यह देखने वाली बात होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज