Rajasthan News: विधानसभा में छलका पायलट खेमे के विधायक हेमाराम चौधरी का दर्द, अपनी ही सरकार पर बरसे

हेमाराम चौधरी ने यह भी कहा कि हालांकि मेरे बोलने से कुछ भी होने वाला नहीं है लेकिन विधानसभा में मैं कम से कम अपनी बात तो रख ही सकता हूं.

हेमाराम चौधरी ने यह भी कहा कि हालांकि मेरे बोलने से कुछ भी होने वाला नहीं है लेकिन विधानसभा में मैं कम से कम अपनी बात तो रख ही सकता हूं.

Pilot faction MLA Hemaram Choudhary's pain: राजस्‍थान में पिछले साल उठे सियासी बवाल में पायलट कैम्प में शामिल रहे बाड़मेर की गुड़ामालानी विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक हेमाराम चौधरी ने सदन में अपनी पीड़ा व्यक्त की.

  • Share this:
जयपुर. विधानसभा (Assembly) में अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान बुधवार को सचिन पायलट खेमे के कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी (Pilot faction MLA Hemaram Choudhary) का दर्द और गुस्सा छलक पड़ा. सड़क एवं पुल की अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान हेमाराम चौधरी ने अपनी ही गहलोत सरकार (Gehlot Government) को जमकर खरी-खोटी सुनाई. हेमाराम चौधरी ने यहां तक कह दिया कि दुश्मनी मेरे से है तो मुझे सजा दो. आखिर गुड़ामालानी क्षेत्र की जनता ने क्या गुनाह किया है?

हेमाराम चौधरी बाड़मेर के गुड़ामालानी से विधायक हैं. राजस्‍थान में गत वर्ष आए सियासी संकट के दौरान वह पायलट खेमे में शामिल थे. हेमाराम चौधरी ने कहा कि बाड़मेर जिले में घटिया सड़कें बनी हैं. उनमें करोड़ों रुपये का घपला हुआ है. उन्होंने इसकी जांच सीबीआई से करवाने की भी मांग कर डाली. उन्होंने कहा कि एक सड़क के निर्माण में 2 से ढाई करोड़ रुपए का घपला हुआ है.

'एक्सईएन को सिंगल ऑर्डर से हटा दिया गया'

कांग्रेस विधायक ने आरोप लगाया कि दबाव में नहीं आने वाले एक्सईएन को सिंगल ऑर्डर से हटा दिया गया और दूसरे एक्सईएन को सिंगल ऑर्डर से ही लगा दिया गया. हेमाराम चौधरी ने कहा कि मेरे क्षेत्र में ठेकेदारों द्वारा एक्सईएन को धमकाया जा रहा है. मेरे विधानसभा क्षेत्र में एक्सईएन को 1 घंटे में ही बोरिया बिस्तर बांधने पड़ जाते हैं तो ऐसे में मैं क्या करूं और कहां जाऊं. हेमाराम चौधरी ने यह भी कहा कि मेरे बोलने से कुछ भी होने वाला नहीं है, लेकिन विधानसभा में मैं कम से कम अपनी बात तो रख ही सकता हूं.
गुड़ामालानी क्षेत्र में एक भी सड़क नहीं

कांग्रेस विधायक हेमाराम चौधरी ने अपनी ही पार्टी की सरकार पर सदन में खूब गुबार निकाला. उन्होंने कहा, 'मैंने बजट को खूब टटोला, लेकिन मेरे विधानसभा क्षेत्र के लिए पूरे बजट में एक भी सड़क नहीं निकली. बजट में नगर निगम, नगर परिषद और नगर पालिका क्षेत्रों के लिए सड़कों की घोषणा की गई है, लेकिन मेरे विधानसभा क्षेत्र में ये तीनों ही नहीं हैं.' उन्होंने कहा कि कुछ हमारे क्षेत्र का भी ख्याल कर लीजिए. दुश्मनी अगर मुझ से है तो मेरे से ही निकालिए, गुड़ामालानी क्षेत्र की जनता ने तो कोई गलती नहीं की है.

हमावर बने रहे हेमाराम चौधरी



हेमाराम चौधरी ने यह भी कहा कि एक जगह गुड़ामालानी का नाम चालाकी से डाल दिया गया, लेकिन गुड़ामालानी का उससे कोई वास्ता ही नहीं है. लोग आखिर केवल नाम से राजी होंगे या सड़क बनने से उन्हें खुशी मिलेगी. वहीं हेमाराम चौधरी ने यह भी कहा कि न पिछले साल के बजट में एक भी गांव को सड़क से जोड़ा गया और ना ही इस साल के बजट में एक भी गांव को सड़क से जोड़ने की बात भी में कही गई है. अगर ऐसा ही रहा तो क्या गांव पूरी जिंदगी बिना सड़कों की ही रहेंगे?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज