पायलट ने पूरा किया अपना प्रण, चार साल बाद पार्टी के जीतने पर ही पहना साफा

पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने आखिरकार अपना प्रण पूरा करने के बाद ही साफा ही पहना. विधानसभा चुनाव-2018 में कांग्रेस के सत्ता में आने के साथ ही पायलट का वो प्रण भी पूरा हो गया, जो उन्होंने 2014 में लिया था.

  • Share this:
पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने आखिरकार अपना प्रण पूरा करने के बाद ही साफा ही पहना. विधानसभा चुनाव-2018 में कांग्रेस के सत्ता में आने के साथ ही पायलट का वो प्रण भी पूरा हो गया, जो उन्होंने 2014 में लिया था.

दरअसल सचिन पायलट ने पिछले 4 सालों से अपने सिर पर साफा नहीं पहना था. सचिन पायलट ने 2014 में चुनाव प्रचार के दौरान वादा किया था कि जब तक राजस्थान में उनकी पार्टी की सरकार नहीं बनेगी, तब तक वो साफा नहीं पहनेंगे. उन्होंने अपने इस प्रण को पूरी तरह से निभाया भी. चुनाव प्रचार अभियान के दौरान भी पायलट अपने प्रण पर कायम रहे.

सचिन पायलट ने राजस्थान का CM बनने के लिए दिया PM मोदी की जाति का हवाला!



डिप्टी CM बने सचिन पायलट ने राजस्थान में ऐसे भरी सियासी उड़ान
विधायक दल की बैठक में पहना साफा
पायलट ने बताया कि राजस्थानी संस्कृति का प्रतीक साफा पहनना उन्हें बहुत पसंद हैं. लेकिन 2014 में पार्टी की हार के बाद उन्होंने फैसला लिया कि वो कांग्रेस की सरकार बनने तक साफा नहीं पहनेंगे. पायलट ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान काफी लोगों ने उन्हें तोहफे के रूप में साफा दिया. लेकिन उन्होंने उसे नहीं पहना, बल्कि माथे से लगाकर रख दिया. शुक्रवार को दिल्ली से वापस आने के बाद होटल क्लार्कस में आयोजित विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट को साफा पहनाया गया, जिसे उन्होंने दिल से स्वीकार करके पहना.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज