Rajasthan: पीएम नरेन्द्र मोदी फिटनेस पर आज पैरा ओलंपिक खिलाड़ी देवेन्द्र झाझड़िया से करेंगे संवाद

यह कार्यक्रम आज दोपहर में 12 बजे ऑनलाइन माध्यम से होगा.
यह कार्यक्रम आज दोपहर में 12 बजे ऑनलाइन माध्यम से होगा.

फिट इंडिया मूवमेंट (Fit India movement) की पहली सालगिरह पर गुरुवार को पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) देश के ख्यातनाम खिलाड़ियों से संवाद कर करेंगे.

  • Share this:
जयपुर. फिट इंडिया मूवमेंट (Fit India Movement) देश में अपना पहला साल पूरा कर चुका है. इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए खेल और फिटनेस से जुड़ी हस्तियों के साथ चर्चा करेंगे. इसमें राजस्थान के चूरू जिले के झाझड़ियों की ढाणी गांव के पैरा ओलम्पिक खिलाड़ी देवेन्द्र झाझड़िया (Devendra Jhajhadia) से भी रू-ब-रू होंगे.

दोपहर में 12 बजे ऑनलाइन माध्यम से होगा संवाद
यह कार्यक्रम गुरुवार दोपहर में 12 बजे ऑनलाइन माध्यम से होगा. इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रसिद्ध क्रिकेटर विराट कोहली, अभिनेता मिलिंद सोमन और देवेंद्र झाझड़िया समेत कई फिटनेस हस्तियों के साथ चर्चा करेंगे. खुद प्रधानमंत्री ने इस संबंध में अपने ट्विटर हैंडल पर इसकी जानकारी साझा की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ फिटनेस पर चर्चा करने का अवसर प्राप्त करने वाले देवेंद्र झाझड़िया पैरा ओलम्पिक में दो बार स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले इकलौते भारतीय खिलाड़ी हैं. खास बात यह है कि पैरा ओलंपिक में दूसरा स्वर्ण भी इन्होंने खुद का ही विश्व रिकॉर्ड तोड़कर हासिल किया है.

Rajasthan: नये DGP की दौड़ में IPS मोहन लाल लाठर सबसे आगे, जानें खास वजह





29 अगस्त, 2019 को फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत
देश में लोगों को फिटनेस के प्रति जागरूक करने के लिए गत वर्ष 29 अगस्त को फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत हुई थी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस पर अमल करने की जिम्मेदारी खेल और युवा कल्याण मंत्रालय को दी थी. फिट इंडिया मूवमेंट की मुहिम के तहत देशभर के लोग सोशल मीडिया पर अपनी फिटनेस को लेकर तस्वीरें व वीडियो शेयर करते रहते हैं. फिट इंडिया मूवमेंट की पहली सालगिरह कोरोना वायरस के कारण अगस्त की बजाय अब 24 सितंबर को मनाई जा रही है.

संघर्षों से भरी है झाझड़िया की कहानी 
पैरा ओलम्पिक खेलों में दो बार स्वर्ण पदक जीतने वाले देवेन्द्र झाझड़िया का जीवन संघर्षों से भरा हुआ रहा है. लेकिन उन्होंने अपनी मेहनत और लगन के बूते पर देश का मान बढ़ाया है. वे आज युवा खिलाड़ियों के लिये प्रेरणा स्त्रोत हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज