• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Jaipur News: आमागढ़ धर्मध्वजा विवाद पर पुलिस सख्त, चेताया-सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की, तो कानूनी कार्रवाई

Jaipur News: आमागढ़ धर्मध्वजा विवाद पर पुलिस सख्त, चेताया-सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की, तो कानूनी कार्रवाई

राहुल प्रकाश ने बताया कि आमागढ़ पहाड़ी पर हुये विवाद में दो पक्षों की ओर से एक दूसरे के खिलाफ ट्रांसपोर्ट नगर थाने पर प्रकरण दर्ज करवाये गये हैं. उनका अनुसंधान किया जा रहा है.

राहुल प्रकाश ने बताया कि आमागढ़ पहाड़ी पर हुये विवाद में दो पक्षों की ओर से एक दूसरे के खिलाफ ट्रांसपोर्ट नगर थाने पर प्रकरण दर्ज करवाये गये हैं. उनका अनुसंधान किया जा रहा है.

Amagarh Dispute Case: आमागढ़ विवाद को लेकर जयपुर एडिशनल पुलिस कमिश्नर राहुल प्रकाश ने चेताया है कि यदि किसी संस्था या किसी पक्ष की ओर से अनावश्यक कदम उठाया गया और सामाजिक, सांस्कृतिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

  • Share this:

जयपुर. राजधानी जयपुर स्थित आमागढ़ विवाद (Amagarh dispute) मामले में पुलिस ने सभी पक्षों को चेताया है कि 1 अगस्त या अन्य किसी भी दिन एकत्रित होने का कोई भी कार्यक्रम नहीं बनायें. जयपुर एडिशनल पुलिस कमिश्नर राहुल प्रकाश (Rahul Prakash) ने कहा कि यदि किसी संस्था या किसी पक्ष की ओर से ऐसा कोई आह्वान किया जाता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में शहर के सामाजिक, सांस्कृतिक सौहार्द को बिगाड़ने नही दिया जायेगा. इस संबंध में सभी पक्षों से सहयोग की अपील की जाती है.

एडिशनल पुलिस कमिश्नर राहुल प्रकाश ने बताया कि आमागढ़ पहाड़ी पर स्थित मन्दिर, मूर्तियों और धार्मिक चिन्हों पताका के सन्दर्भ में दो पक्षों की ओर से एक दूसरे के खिलाफ ट्रांसपोर्ट नगर थाने पर प्रकरण दर्ज करवाये गये हैं. उनका अनुसंधान किया जा रहा है. इस मामले में प्रथम दृष्टया यह तथ्य प्रमाणित है कि आमागढ़ पर स्थित सम्पूर्ण क्षेत्र और भवन वन विभाग के स्वामित्व में है.

संबधित पक्ष विवाद से दूर रहें
बकौल राहुल प्रकाश ने कहा “आमागढ़ वन क्षेत्र पूरा नियंत्रण भी वन विभाग का ही है. इस क्षेत्र में तेंदुआ और अन्य महत्वपूर्ण वन्य जीवों का रहवास है. मेरी अपील है कि इस मामले में सभी संबंधित पक्ष किसी भी विवाद से दूर रहें.” वर्तमान विवाद के सन्दर्भ में पुलिस आयुक्त आनन्द श्रीवास्तव और अन्य पुलिस अधिकारियों ने संपूर्ण क्षेत्र का अवलोकन भी किया है.

यह है पूरा मामला
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों आमागढ़ के किले स्थित मंदिर से धर्मध्वजा को जबरन हटवा दिया गया था. आरोप है यह सब कुछ कांग्रेस समर्थित निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा की मौजूदगी में हुआ. इस दौरान झंडे के साथ बेअदबी की गई. बाद में इस पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इससे हिंदूवादी संगठन नाराज हो गये थे. आमागढ़ की पहाड़ी पर माता का एक मंदिर है. रामकेश मीणा और उनके समर्थकों ने दावा कि ये मीणा समुदाय की देवी का मंदिर है. मीणा ने विरोध के बावजूद चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर फोर्ट में फिर से झंडा लगाया तो वह फिर हटवा देंगे. रामकेश मीणा ने कहा-आदिवासी समुदाय हिंदू नहीं हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज