• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Jaipur Crime News: नशेड़ियों ने किया पुलिस का जीना हराम, नशे के लिए दे रहे आपराधिक वारदातों को अंजाम

Jaipur Crime News: नशेड़ियों ने किया पुलिस का जीना हराम, नशे के लिए दे रहे आपराधिक वारदातों को अंजाम

पुलिस का कहना है कि नशेड़ियों को लॉकअप में रखना भी चुनौतीभरा काम है.

पुलिस का कहना है कि नशेड़ियों को लॉकअप में रखना भी चुनौतीभरा काम है.

Drug trade increasing in jaipur : जयपुर पुलिस कमिश्नरेट की ओर से ऑपरेशन क्लीन स्वीप अभियान के तहत मादक पदार्थों के खिलाफ कार्रवाईयां की जा रही हैं. अब तक 800 से अधिक मामले जयपुर पुलिस द्वारा दर्ज किए जा चुके हैं. लेकिन स्मैक-अफीम और अन्य मादक पदार्थ आसानी से मिल जाने के कारण राजधानी में नशेड़ियों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान की राजधानी जयपुर में नशेड़ियों (Drug addicts) का आतंक बढ़ता जा रहा है. खास बात यह है कि नशेड़ियों से अब जयपुर पुलिस भी परेशान हो गई है. एक ओर जहां अलग अलग थाना इलाकों में नशे के लिए नशेड़ी आपराधिक वारदातों को अंजाम देने से भी नहीं चूक रहे हैं वहीं नशेड़ियों पर कार्रवाई कर थानों में भी रखना मुश्किल हो रहा है. जयपुर शहर (Jaipur City) में नशे का प्रचलन तेजी से बढ़ रहा है. नशे के सौदागर थोड़े से पैसों के लिए युवा पीढ़ी को कभी न खत्म होने वाले अंधेरे में धकेल रहे हैं. नशे की बढ़ती प्रवृति के कारण राजधानी में अब अपराध भी बढ़ रहे हैं.

जयपुर में एनडीपीएस के अलावा लूट, चोरी, चैन स्नेचिंग, मोबाईल स्नेचिंग और महिलाओं के साथ छेड़छाड़ जैसे अपराध भी तेजी से बढ़ रहे हैं. नशे के लिए पैसा नहीं होने के कारण नशेड़ी लोग इस प्रकार की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं. खासतौर पर परकोटा इलाके में नशेड़ियों द्वारा मोबाइल और चैन स्नैचिंग करना आम हो गया है. यही नहीं हाल ही में रामगंज थाना इलाके में एक नशेड़ी ने नशे की सामग्री खरीदने के लिए लिए जैन मंदिर से मूर्तियां चुराकर कबाड़ी को बेच दी.

बाइक और साइकिल चोरी के पीछे भी नशेड़ियों का हाथ
पुलिस का कहना है कि बाइक और साइकिल चोरी के पीछे भी नशेडियों का हाथ होता है. नशेड़ियों के आतंक के कारण अब पुलिस भी परेशान हो गई है. इलाके में आपराधिक गतिविधियां बढ़ने के साथ ही उन्हें गिरफ्तार कर थानों में रखना भी काफी चुनौती भरा हो जाता है. थानों में नशेड़ियों पर कड़ी निगरानी रखनी पड़ती है और नशेड़ियों के स्वास्थ्य का भी ख्याल रखना पड़ता है. नशा उतरने के साथ नशेड़ी उत्पात मचाने लगते हैं तो तुरंत अस्पताल तक पहुंचाना पड़ता है.

जुलाई में ही 1100 नशेड़ियों के खिलाफ कार्रवाई
आपराधिक गतिविधियों बढ़ने के कारण पुलिस कार्रवाई भी कर रही है. जयपुर नोर्थ जिले में जुलाई माह में ही 1100 से अधिक नशेड़ियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इनमें 22 नशेड़ियों के खिलाफ कार्रवाई कर 16 मामले एनडीपीएस एक्ट के तहत दर्ज किए गए हैं तो 978 नशेड़ियों को धारा 151 के तहत गिरफ्तार कर 240 को जेल भी भेजा गया है.

जयपुर नोर्थ क्षेत्र में हुई कार्रवाई

1.गलतागेट थाने में 3 नशेड़ियों को एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई- स्मैक-गांजा पीने के उपकरण जब्त, 156 नशेड़ियों को धारा 151 के तहत किया गिरफ्तार.
2.रामगंज थाने में 6 नशेड़ियों पर एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई- स्मैक-गांजा पीने के उपकरण 522 ग्राम गांजा जब्त, 7 अभियुक्तों को 110 के तहत किया पाबंद, 127 नशेड़ियों को धारा 151 और 41 अभियुक्तों को अन्य कार्रवाई के तहत किया गिरफ्तार.
3.माणक चौक थाने में 60 नशेड़ियों को धारा 151, 4 अभियुक्तों को अन्य कार्रवाई के तहत किया गिरफ्तार
4.सुभाष चौक थाने में 1 नशेड़ी को एनडीपीएस एक्ट में कार्रवाई,गांजा पीने के उपकरण जब्त, 3 अपराधियों को धारा 110 के तहत किया पाबंद, 48 नशेडियों को धारा 151 और 4 अभियुक्तों को अन्य कार्रवाई के तहत किया गिरफ्तार.
5.आमेर थाने में 1 नशेड़ी को एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई, 79 नशेड़ियों को धारा 151 के तहत किया गिरफ्तार
6.ब्रह्मपुरी थाने में 2 नशेड़ियों पर एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई, 48 नशेड़ियों को धारा 151 में किया गिरफ्तार.
7. कोतवाली थाने में 3 नशेड़ियों पर एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई, 54 नशेडियों को धारा 151 के तहत किया गिरफ्तार.
8.नाहरगढ़ थाने में 43 नशेड़ियों को धारा 151 के तहत किया गिरफ्तार, 13 आरपीजीओ और अन्य कार्रवाई की गई.
9.सजंय सर्किल थाने में 52 नशेड़ियों को धारा 151 के तहत किय़ा गिरफ्तार.
10.जालूपुरा थाने में 42 नशेड़ियों पर धारा 151 के तहत किया गिरफ्तार.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज