Rajasthan Crisis: सचिन पायलट कैम्प से फिर सुलह की कोशिश! CWC सदस्य रघुवीर मीणा ने दिये संकेत
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Crisis: सचिन पायलट कैम्प से फिर सुलह की कोशिश! CWC सदस्य रघुवीर मीणा ने दिये संकेत
कांग्रेस की इस कोशिश की एक वजह बीएसपी के 6 विधायकों पर 11 तारीख को राजस्थान हाईकोर्ट से आना वाला संभावित फैसला भी है.

Rajasthan crisis : अशोक गहलोत सरकार पर छाये सियासी संकट से निपटने के लिए एक बार फिर पूर्व पीसीसी चीफ एवं डिप्टी सीएम सचिन पायलट से सुलह की कोशिशें होती दिखाई दे रही हैं.

  • Share this:
जयपुर. राजस्‍थान की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) पर छाये सियासी संकट से निपटने के लिए एक बार फिर पूर्व पीसीसी चीफ एवं डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) से सुलह की कोशिशें होती दिखाई दे रही हैं. कांग्रेस गहलोत सरकार को बचाने के लिये हरसंभव प्रयास कर रही है. बावजूद इसके कोई बात बनती नहीं दिख रही है और सरकार पर संकट लगातार गहराता जा रहा है.

सरकार और संगठन से बगावत करने वाले सचिन पायलट से सुलह के लिए कांग्रेस आलाकमान अभी भी कोशिश कर रहा है. हालांकि, रविवार को जैसलमेर में विधायक दल की बैठक में पायलट कैम्प के लिए कांग्रेस के दरवाजा बंद करने के विधायकों और कुछ नेताओं के सुझाव के बावजूद कांग्रेस के कई नेता सुलह की कवायद में जुटे हैं. CWC सदस्य रघुवीर मीणा ने कहा कि बागी विधायक अगर फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस के पक्ष में वोट करते हैं तो उन्हें माफ कर दिया जाएगा.

Rajasthan crisis: BJP के 40 विधायकों से अशोक गहलोत कैंप ने साधा संपर्क! अब आगे क्‍या होगा?



सरकार को सुरक्षित करने की कवायद
रघुवीर मीणा के बयान को सुलह की कवायद से जोड़कर देखा जा रहा है. कांग्रेस कोशिश कर रही है कि 14 अगस्त से पहले किसी भी फॉर्मूले पर बात बन जाए और पायलट वापसी के लिए तैयार हो जाएं, ताकि फ्लोर टेस्ट से पहले ही सरकार को सुरक्षित किया जा सके. कांग्रेस की इस कोशिश की एक वजह बीएसपी के 6 विधायकों पर 11 तारीख को राजस्थान हाईकोर्ट से आने वाला संभावित फैसला भी है. अगर हाईकोर्ट बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय पर स्टे देता है तो सरकार को बचाना मुश्किल हो जाएगा.

Rajasthan: गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब वसुंधरा राजे को नहीं खाली करना होगा सरकारी बंगला

कांग्रेस नेताओं के दावे और आशंकाएं
सरकार बचाने के लिए कांग्रेस नेता एड़ी से चोटी का जोर लगाये हुए हैं. हालांकि, गहलोत समेत पार्टी के वरिष्ठ नेता लगातार कह रहे हैं कि सरकार को कोई खतरा नहीं है. उनके पास पर्याप्त बहुमत है. बीजेपी की चाल सफल नहीं होगी. इसके बावजूद उन्हें आशंका के बादल दिखायी दे रहे हैं. लिहाजा, वे पुरजोर कोशिश करके विधानसभा-सत्र से पहले सभी तरह की आशंकाओं को से मुक्त होना चाहते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज