Rajasthan Crisis: सरकार बचाने के लिए खाचरियावास का हवन, पूछा- वसुंधरा राजे के बंगले से तकलीफ क्यों?
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Crisis: सरकार बचाने के लिए खाचरियावास का हवन, पूछा- वसुंधरा राजे के बंगले से तकलीफ क्यों?
प्रताप सिंह खाचरियावास ने करवाया यज्ञ.

प्रताप सिंह खाचरियावास (Pratap Singh Khachariyawas) ने कहा कि वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) दो बार मुख्यमंत्री रही हैं. वे राजस्थान की बहू हैं. ऐसे में उनके पास मकान है तो क्या आपत्ति है?

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान की गहलोत सरकार (Gehlot Government) के सामने खड़े हुए सियासी संकट के बीच जहां सरकार बचाने के लिए एक तरफ विधायकों की जैसलमेर में बाड़ेबंदी की गई हैं. तो वहीं दूसरी तरफ सरकार के ही मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास घर पर पूजा पाठ कर सरकार को बचाने के लिए विजय का आशिर्वाद मांग रहे हैं. दरअसल, राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास (Pratap Singh Khachariyawas) ने राजस्थान में मचे सियासी संग्राम के बीच गुरुवार को अपने सरकारी बंगले पर पूजा अर्चना की. मौका था खाचरियावास की ओर से घर पर करवाए गए रामायण पाठ की पूर्णाहुति का.

इस मौके पर खाचरियावास ने सरकार के सामने पैदा हुए संकट को दूर करने के लिए भगवान राम से प्रार्थना भी की. खाचरियावास ने कहा कि हे राम, इन सभी झंझटों से हमे मुक्ति दिलाइए. पूजा के बाद खाचरियावास ने उम्मीद भी जताई कि सारी चिंताएं हवन कुंड की अग्नि में भस्म होंगी और हमें आशिर्वाद मिलेगा. प्रताप सिंह ने कहा कि राम के सामने याचक बनकर जाना होता है. फिर चाहे मंत्री हो या कोई संत्री. खुद को भगवान राम का वंशज बताने वाले खाचरियावास ने कहा कि राम हमारे साथ हैं और हमारी जीत भी होगी.

'सरकार गिराने भाजपा ने लगाई जान'



बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले पर हाईकोर्ट की ओर से दिए गए निर्देशों पर परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास का बयान सामने आया हैं. खाचरियावास ने कहा है कि सब संविधान से चलते हैं और उसका सम्मान करना हमारी जिम्मेदारी हैं. कोर्ट ने नोटिस तामील करवाने के लिए कहा है तो नोटिस भी तामील हो जाएंगे. लेकिन, फैसला तो कानून से होगा. खाचरियावास ने कहा कि दल बदल कानून से ऊपर कोर्ट, विधानसभा और लोकसभा भी नही हैं. दल बदल कानून के तहत दो तिहाई के साथ दल बदल हो सकता हैं. जबकि, यहां तो पूरे 6 विधायक शामिल हुए हैं. खाचरियावास ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि जहां बीजेपी में विधायक शामिल करवाए जाते हैं. वहां कोई दिक्कत नहीं होती हैं. चारों तरफ से अशोक गहलोत सरकार को घेरने की कोशिश हो रही हैं. हमारी गलती इतनी है कि बस हम राजस्थान की जनता के वोट का सम्मान कर रहे हैं. खाचरियावास ने ये भी कहा कि सरकार को गिराने के लिए भाजपा ने जान लगा रखी है. मरते दम तक राजस्थान की जनता से वचन निभाएंगे.
ये भी पढ़ें: सिरसा बस स्टैंड से सवारियों से भरी रोडवेज की बस ले भागे तीन युवक, गिरफ्तार

हमारे रिश्ते खराब नहीं होने चाहिए

वहीं, प्रताप सिंह खाचरियावास ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बंगले के मुद्दे पर कहा कि आवास चर्चा का मुद्दा नहीं है. कांग्रेस हो या भाजपा व्यक्तिगत हमला नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग अपने दोस्तों से बार-बार वसुंधरा राजे के बंगले का मुद्दा उठवाते हैं. जबकि, वसुंधरा राजे दो बार मुख्यमंत्री रही हैं. वे राजस्थान की बहू हैं. ऐसे में उनके पास मकान है तो क्या आपत्ति है. खाचरियावास ने कहा कि वसुंधरा भाजपा से हैं और अशोक गहलोत कांग्रेस से हैं. तो क्या उनके पीछे पड़ जाएं?  खाचरियावास ने ये भी कहा कि हमारे रिश्ते खराब नहीं होने चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज