Rajasthan: विधानसभा-सत्र बुलाया तो कैसे मेंटेन होगी सोशल डिस्टेंसिंग ? यह है सदन की व्यवस्था
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: विधानसभा-सत्र बुलाया तो कैसे मेंटेन होगी सोशल डिस्टेंसिंग ? यह है सदन की व्यवस्था
विधानसभा का मुख्य सभाकक्ष यानी सदन 104 वर्ग फुट व्यास वाला वर्तुलाकार कक्ष है.

विधानसभा सचिवालय इस बात पर गंभीरता से विचार कर रहा है कि अगर सत्र आहूत होता है तो सदन के अंदर 200 विधायकों को सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर किस तरह से बिठाया जाये.

  • Share this:
जयपुर. देश दुनिया में कोरोना वायरस (COVID-19) का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है लेकिन राजस्थान में इसके बीच ही राज्य सरकार विधानसभा का सत्र (Assembly session) आहूत करना चाहती है. इस मसले को लेकर राज्यपाल और सरकार के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है. इन सबके बीच विधानसभा सचिवालय इस बात पर गंभीरता से विचार कर रहा है कि अगर सत्र आहूत होता है तो सदन के अंदर 200 विधायकों को सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर किस तरह से बिठाया जाये. बड़ा सवाल यह भी है कि अगर विपक्ष वेल में आकर नारेबाजी करेगा तो सोशल डिस्टेंसिंग किस तरह से मेंटेन रह सकेगी ?

200 सीटों पर ही इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग समेत अन्य डिजिटल यूनिट्स लगी है
राजस्थान विधानसभा 200 सदस्यीय है. विधानसभा का मुख्य सभाकक्ष यानी सदन 104 वर्ग फुट व्यास वाला वर्तुलाकार कक्ष है. सभाकक्षा में सदस्यों की संख्या में भविष्य में इजाफा होने की संभावनाओं को देखते हुए 260 सदस्यों की बैठने की क्षमता रखी गई है. लेकिन इनमें वर्तमान में 244 सदस्यों तक के बैठने की व्यवस्था की गई है. इनमें से भी वर्तमान में 200 सीटों पर ही इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग समेत अन्य डिजिटल यूनिट्स लगी हुई है. इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग के जरिए विधायक वांछित स्विच दबाकर अपना वोट दे सकते हैं. लेकिन सदन में लगी अतिरिक्त सीटों पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग समेत माइक नहीं लगे हुए हैं. ऐसे में इतनी जल्दी व्यवस्था कर पाना फिलहाल मुश्किल नजर आ रहा है.

Rajasthan: राजभवन और सरकार में टकराव, राज्यपाल ने 2 बिन्दुओं पर मांगा स्पष्टीकरण
उचित दूरी बनाए रखने के लिए 260 सीटों को काम में लेना पड़ेगा


सभा कक्ष के चारों ओर दूसरे तल पर 12 मीटर चौड़ी गैलरी में दर्शक दीर्घा और पत्रकार दीर्घा है. विधानसभा सचिवालय इस बात पर विचार कर रहा है कि 6 फीट की उचित दूरी बनाए रखने के लिए सभाकक्ष में स्थित 260 सीट को काम में लिया जाए. इसके अलावा अधिकारी दीर्घा भी सदन के अंदर मौजूद है. उसमें 48 व्यक्तियों की बैठने की क्षमता है. दूसरी ओर राज्यपाल दीर्घा में 21 सदस्यों के साथ सदन के अंदर ऊपरी तल पर 280 लोगों के पत्रकार दीर्घा में बैठने की क्षमता है. विशिष्ट दर्शक दीर्घा में 132 और महिला दीर्घा में 66 लोगों की बैठने की व्यवस्था है.

Rajasthan Crisis: फिलहाल विधानसभा का सत्र नहीं बुलाएंगे राज्यपाल, सीएम गहलोत की भेजी फाइल लौटाई

यह है सबसे बड़ी दिक्कत
विधानसभा सचिवालय इस बात पर विचार कर रहा है कि सबको सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बिठाना है तो मुख्य सदन के अलावा राज्यपाल दीर्घा और अधिकारी दीर्घा को काम में लिया जा सकता है. लेकिन सबसे बड़ी मुश्किल इस बात की रहेगी कि इन दीर्घाओं का इस्तेमाल किया तो विधायक आपस में एक दूसरे को देख नहीं सकेंगे. वहीं अगर ना पक्ष की ओर से किसी मामले पर विरोध तेज हुआ और वेल में आकर नारेबाजी की गई तो सोशल डिस्टेंसिंग कैसे मेंटेन हो पाएगी ?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading