होम /न्यूज /राजस्थान /

Rajasthan BJP Crisis: कैलाश मेघवाल ने गुलाबचंद कटारिया के खिलाफ खोला मोर्चा, पद से हटाने की मांग

Rajasthan BJP Crisis: कैलाश मेघवाल ने गुलाबचंद कटारिया के खिलाफ खोला मोर्चा, पद से हटाने की मांग

कैलाश मेघवाल और गुलाबचंद कटारिया  के बीच बढ़ी तकरार.

कैलाश मेघवाल और गुलाबचंद कटारिया के बीच बढ़ी तकरार.

Jaipur News: पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल (Kailash Meghwal) ने  नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulabchand Kataria) पर गलत बयानबाजी करना का बड़ा आरोप लगाया है.

जयपुर. राजस्थान में विधानसभा सत्र शुरू (Rajasthan Assembly Session) होने से पहले भाजपा में फिर एक बार दो उदयपुर संभाग से आने वाले वरिष्ठ नेताओं के बीच में ठन गई है. पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल (Kailash Meghwal) ने  नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulabchand Kataria) पर हमला बोला है. मेघवाल ने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया पर आरोप लगाया है कि उनकी अनर्गल बयानबाजी के चलते पार्टी में तीन उपचुनाव में वोटों का नुकसान हुआ है. भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश मेघवाल ने भाजपा विधायक दल की बैठक में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव भी लाएंगे. राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखने के बाद  मेघवाल ने अब उसकी जानकारी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया को भी दी है.
कैलाश मेघवाल ने कहा है कि क्योंकि नेता प्रतिपक्ष के खिलाफ  निंदा प्रस्ताव है, इसलिए  भाजपा विधायक दल की उस दिन की बैठक की अध्यक्षता भाजपा प्रदेशाध्यक्ष  सतीश पूनियां करें.
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया पर लगाया बड़ा आरोप
पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर अवगत करवाया है कि राजस्थान भारतीय जनता पार्टी के विधायक दल के नेता और प्रतिपक्ष नेता गुलाबचंद कटारिया के बयानों से भाजपा के संगठन को हो रही क्षति एवं वोटों के क्षरण  हो रहा है. मेघवाल ने आरोप लगाया है कि कटारिया द्वारा महाराणा प्रताप के लिए प्रयोग किए गए अपमानजनक शब्दों की सर्व समाज के विभिन्न संगठनों और लोगों में व्यापक स्तर पर तीखी प्रतिक्रिया हुई है. मेघवाल ने जिक्र किया कि इस साल 13 अप्रैल को राजसमंद विधानसभा क्षेत्र के गांव कुंवारिया में एक चुनावी सभा के दौरान दिए गए बयान के चलते भाजपा को वोटों का भरपूर घाटा हुआ. उन्होंने पत्र में लिखा कि महाराणा प्रताप को लेकर बोले गए शब्दों का व्यापक स्तर पर विरोध ही रहा था कि कटारिया ने मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के बारे में अनर्गल भाषण दिया, भाजपा नहीं होती तो भगवान रामचंद्र समुद्र में होते.
मेघवाल ने कहा कि इस तरह से महाराणा प्रताप और श्री राम के बारे में दिए गए दो बयान भारतीय जनता पार्टी के गले की फांस बन गई है. राजस्थान में वर्तमान समय में कांग्रेस पार्टी की सरकार है उसके सरकार लुंज पुंज और गुटबाजी के दौर से गुजर रही है. ऐसे हालात में भी भारतीय जनता पार्टी तीनों उप चुनाव में वोट का बहुत बड़ा घाटा हुआ है. जेपी नड्डा को कैलाश मेघवाल की ओर से लिखे पत्र में तीनों विधानसभा चुनाव का भी विश्लेषण करके  दिया है.
पत्र में गुलाबचंद कटारिया को नेता प्रतिपक्ष पद से हटाने  की  मांग
पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल की ओर से जेपी नड्डा को लिखे गए 10 पेज के पत्र में कटारिया पर वोट कटिंग मशीन का  आरोप लगाया. मेघवाल ने पत्र में लिखा कि आज जो स्थिति सामने है उससे एक व्यक्ति के हित, उसकी जीत और स्वार्थ है और दूसरी और भारतीय जनता पार्टी के व्यापक हित उनको लेकर निर्णय आपको लेना है. इन सारे प्रमाणिक तत्वों के बाद मेरी राय है कि उन्हें प्रदेश स्तरीय पद से हटा दिया जाए. वैसे अब कटारिया वोट कटिंग मशीन हो गए, जो उपचुनाव में मिले वोटों से प्रमाणित होता है. भविष्य में भी वोट कटिंग मशीन नहीं रहेंगे, इस बात की संभावना बहुत कम है.
ये भी पढ़ें: सचिन पायलट को मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी? क्या है राहुल गांधी के Birthday Wish का सियासी मैसेज
मेघवाल ने पत्र की प्रतिलिपि संघ से लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को भेजी
मेघवाल ने अपने पत्र की प्रतिलिपि केवल राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को ही नहीं भेजी, बल्कि आठ अन्य नेता को अपनी पत्र की प्रतिलिपि भेजी है जिसमें डॉ मोहन भागवत सत्संग संघ चालक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, दत्तात्रेय होसाबले सरकार्यवाह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, अमित शाह केंद्रीय गृहमंत्री ,वसुंधरा राजे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भाजपा, भूपेंद्र यादव केंद्रीय मंत्री, ओम माथुर राज्यसभा सांसद ,अरुण सिंह प्रदेश प्रभारी, डॉ सतीश पूनिया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष.
गुलाबचंद कटारिया नेता प्रतिपक्ष ने दिया बड़ा बयान
इधर, कैलाश मेघवाल के पत्र सामने आने के बाद नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने अपना बयान जारी करके कहा कि कैलाश मेघवाल ने जो भी आरोप मुझ पर लगाए हैं और जो भी पार्टी इस बारे में निर्णय करेगी मैं उसे स्वीकार करूंगा.

Tags: Rajasthan bjp, Rajasthan Politics

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर