VIDEO: कोरोना संक्रमण के बीच जयपुर में इस स्कूल ने करवा डाली प्रैक्टिल परीक्षा, जांच अधिकारी को धमकाया

शिक्षा अधिकारियों ने कहा कि मोबाइल में जांच अधिकारी द्वारा लिए गए कुछ फुटेज स्कूल प्रशासन ने जबरदस्ती डिलीट करवा दिए. पूरे मामले की रिपोर्ट जिला कलेक्टर को भेजी गई है.

शिक्षा अधिकारियों ने कहा कि मोबाइल में जांच अधिकारी द्वारा लिए गए कुछ फुटेज स्कूल प्रशासन ने जबरदस्ती डिलीट करवा दिए. पूरे मामले की रिपोर्ट जिला कलेक्टर को भेजी गई है.

Violation of rules of public discipline fortnight: राजधानी जयपुर के एक प्रतिष्ठित स्कूल ने सोमवार को सरकारी नियमों को धत्ता बताते हुये छात्राओं को प्रैक्टिल परीक्षा के लिये बुलाया. यहीं नहीं शिकायत पर जांच करने गई शिक्षा विभाग की जांच ऑफिसर को धमकाया भी.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में तेज से फैल रहे कोरोना संक्रमण (Corona infection) के कोहराम के बीच राजधानी जयपुर की प्रतिष्ठित एमजीडी स्कूल (MGD School) ने सोमवार को संवेदनहीनता की हदें पार कर दी. 'जन अनुशासन पखवाड़े' (Public discipline fortnight) के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुये स्कूल प्रशासन ने 12वीं कक्षा की छात्राओं को प्रैक्टिकल परीक्षा (Practical exam) के लिए बुलाया लिया. कुछ अभिभावकों ने इसकी शिकायत जिला शिक्षा अधिकारी को कर दी.

डीईओ ने सरकारी स्कूल की प्रिंसिपल जय श्री जैन को जांच के लिए एमजीडी स्कूल भेजा. जांच अधिकारी को देख एमजीडी स्कूल का प्रशासन बिफर गया. उसने जांच अधिकारी को 2 घंटे तक भीतर बिठाये रखा. लेकिन इससे पहले ही जांच अधिकारी ने प्रैक्टिकल देती छात्राओं के वीडियो फुटेज बना लिए. छात्राओं से बातचीत का वीडियो भी बना लिया.

Youtube Video


जांच अधिकारी को धमकाया
जांच अधिकारी ने जब स्कूल प्रशासन को कहा कि आप कोरोना गाइडलाइन की अवहेलना कर रहे हैं तो स्कूल प्रशासन बोला कि आप हमें यह कहने वाले कौन होते हैं ? हमने कलक्टर से परमिशन ले रखी है. इस बीच सीबीईओ ने स्कूल प्रशासन को जांच अधिकारी को छोड़ने के लिए कहा तो उन्होंने इंकार कर दिया. सीबीईओ ने इसकी जानकारी डीईओ माध्यमिक को दी. डीईओ ने जब स्कूल प्रशासन को सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी तब कहीं जाकर जांच अधिकारी जयश्री जैन को स्कूल ने छोड़ा.

स्कूल प्रशासन ने जबरदस्ती फुटेज डिलीट करवा दिए

शिक्षा अधिकारियों ने कहा कि मोबाइल में जांच अधिकारी द्वारा लिए गए कुछ फुटेज स्कूल प्रशासन ने जबरदस्ती डिलीट करवा दिए. पूरे मामले की रिपोर्ट जिला कलेक्टर को भेजी गई है. इसके साथ ही माध्यमिक शिक्षा निदेशक को भी पूरी रिपोर्ट भेजी गई है. शिक्षा विभाग कर्फ्यू और सरकार के अनुशासन पखवाड़े के बीच मैं प्रैक्टिकल आयोजित करने की इस घटना को गंभीर मान रहा है और पुलिस में एफआईआर कराने तक के बारे में सोच रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज