राजस्थान: लॉकडाउन के दौरान जयपुर में एम्बुलेंस में गर्भवती से गैंगरेप, 2 आरोपी गिरफ्तार

आरोपियों ने पीड़िता को खाना खिलाने के बहाने एम्बुलेंस में बिठाया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आरोपियों ने पीड़िता को खाना खिलाने के बहाने एम्बुलेंस में बिठाया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

gang-raped in ambulance at jaipur: पिकं सिटी जयपुर को शर्मसार करने वाली गैंगरेप की घटन से जुड़े मामले में दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

  • Share this:

जयपुर. कोरोना काल में राजस्थान की राजधनी जयपुर में हैवानियत की हद पार करने वाले गैंगरेप (Ggang rape) के आरोपियों को पुलिस ने दबोच लिया है. आरोपियों ने तीन दिन पहले मोती डूंगरी इलाके में एक गर्भवती खानाबदोश महिला (Pregnant woman) से एम्बुलेंस में गैंगरेप किया था. पुलिस आरोपियों से पूछताछ में जुटी है. पुलिस ने एम्बुलेंस को भी जब्त कर लिया है.

मोती डूंगरी थाना प्रभारी सुरेंद्र पंचोली के अनुसार, गैंगरेप की यह वारदात 24 मई को हुई थी. खानाबदोश महिला का आरोप है कि उसने गांधी सर्किल के नजदीक निजी एम्बुलेंस चलाने वाले से खाने के लिए रुपए मांगे थे. इस पर एम्बुलेंस के कर्मचारी ने खाना खिलाने के बहाने उसे अपनी एम्बुलेंस में बिठा लिया. उसके बाद कुछ ही दूरी से उसने अपने एक और साथी को एम्बुलेंस में बिठा लिया.

वारदात के बाद पीड़िता को एम्बुलेंस से उतारकर फरार हो गये

पीड़िता का आरोप है कि उसके बाद दोनों आरोपियों ने उनके साथ एम्बुलेंस में गैंगरेप किया. कोरोना लॉकडाउन होने के कारण वाहनों की आवाजाही न के बराबर थी. दोनों आरोपी गैंगरेप के बाद उसे वापस एम्बुलेंस से उतारकर फरार हो गये. उसके बाद महिला ने मोती डूंगरी थाने पहुंचकर मामले की जानकारी पुलिस को दी.
7 माह की गर्भवती बताई जा रही है पीड़िता

पुलिस ने पीड़िता से जानकारी जुटाकर सक्रियता दिखाते हुए दोनों आरोपियों सुरेन्द्र और महेन्द्र को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने आरोपियों की एम्बुलेंस को भी कब्जे में ले लिया है. पीड़िता मूल रूप से सवाई माधोपुर जिले की रहने वाली है. वह 7 माह की गर्भवती बताई जा रही है. उल्लेखनीय है कि प्रदेश में एक बार फिर से गैंगरेप की वारदात बढ़ने लगी है. हाल ही में भरतपुर और करौली जिले में भी गैंगरेप की बड़ी वारदात सामने आ चुकी हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज