राजस्थान में मकोका की तर्ज पर कानून बनाने की तैयारी!

राजस्थान सरकार मकोका की तर्ज पर कानून बनाने की तैयारी में है. कानून का ड्राफ्ट यानी मसौदा तैयार करने के लिए एक रिटायर्ड न्यायिक अधिकारी उमेश कुमार पुरोहित को नियुक्त कर दिया है.

Prem Meena | ETV Rajasthan
Updated: February 14, 2018, 8:54 PM IST
राजस्थान में मकोका की तर्ज पर कानून बनाने की तैयारी!
जयपुर में सचिवालय फोटो-ईटीवी
Prem Meena | ETV Rajasthan
Updated: February 14, 2018, 8:54 PM IST
राज्य सरकार संगठित अपराध को रोकने के लिए मकोका की तर्ज पर कानून लाने की तैयारी कर रही है. गृह विभाग ने कानून का मसौदा तैयार करने के लिए एक रिटायर्ड विधि अधिकारी को नियुक्त भी कर दिया है. कानून लाने के पीछे सरकार का मुख्य उदेश्य संगठित अपराध पर अंकुश लगाना है.

राज्य सरकार कुख्यात अपराधियों पर पर नकेल कसने के मकसद से महाराष्ट्र के मकोका कानून की तर्ज पर कानून लाने की तैयारी कर रही है. इस दिशा में गृह विभाग के अधिकारियों ने अपने स्तर पर कार्यवाही शुरू कर दी है. सूत्रों के अनुसार गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया की हरी झंडी मिलने के बाद गृह विभाग ने कानून का ड्राफ्ट यानी मसौदा तैयार करने के लिए एक रिटायर्ड न्यायिक अधिकारी उमेश कुमार पुरोहित को नियुक्त कर दिया है.

कानून के पीछे सरकार का मुख्य उदेश्य संगठित अपराध पर अंकुश लगाना है. हालांकि, यह प्रकि्या अभी प्रारंभिक स्तर पर है. यदि यह कानून अमल में आ जाता है तो राज्य में संगठित अपराध पर अंकुश लगने में मदद मिल सकती है. हाल ही के दिनों में प्रदेश के कई हिस्सों में गैंगवार के चलते आपराधिक घटनाएं हुई हैं. इसके अलावा कई जिलों में पीढ़ी दर पीढी आपराधिक घटनाएं होती रही है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र सरकार ने वर्ष 1999 महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ आग्रेनाइज्ड क्राइम एक्ट यानी मकोका को लागू किया था.

इसका मुख्य संगठित अपराध को समाप्त करना था. इसके बाद वर्ष 2002 में दिल्ली सरकार ने इस कानून को लागू कर दिया था. पुलिस द्वारा इस एक्ट के तहत जबरन वसूली, फिरौती के लिए अपहरण, हत्या व हत्या की कोशिश व उगाही जैसे मामलों पर कार्रवाइ की जाती है.

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर