Home /News /rajasthan /

president election 2022 know nda candidate draupadi murmu complete vote value from rajasthan cgpg

President Election 2022: राजस्थान से NDA प्रत्याशी को मिल सकते हैं ज्यादा वोट, समझें पूरा समीकरण

Rajasthan News:राष्ट्रपति चुनाव में राजस्थान के भी अहम योगदान रहने वाला है. NDA प्रत्याशी को यहां से ज्यादा वोट मिल सकते हैं.

Rajasthan News:राष्ट्रपति चुनाव में राजस्थान के भी अहम योगदान रहने वाला है. NDA प्रत्याशी को यहां से ज्यादा वोट मिल सकते हैं.

Rajasthan News: एनडीए ने द्रोपदी मुर्मू (draupadi murmu) को राष्ट्रपति (President Election 2022) उम्मीदवार बनाकर बड़ा दांव खेला है. इसमें राजस्थान का भी अहम योगदान हो सकता है. राजस्थान में कांग्रेस, निर्दलीय और सहयोगी दलों के मिलाकर कुल 126 विधायक हैं. वहीं भाजपा के पास 71 विधायक हैं, जबकि 3 विधायक आरएलपी के हैं. ऐसे में विधानसभा में कांग्रेस का पलड़ा भारी है, लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में सांसद भी वोट करते हैं. लिहाजा वोट वैल्यू के हिसाब से भाजपा का पलड़ा ज्यादा भारी हो जाता है.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए ने द्रोपदी मुर्मू को प्रत्याशी बनाकर ट्रंप कार्ड खेल दिया है और विपक्षी दलों के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं. रायसीना हिल्स की दौड़ में द्रोपदी मुर्मू की जीत तय भी मानी जा रही है. इस जीत में राजस्थान का भी अहम योगदान रहने वाला है. राजस्थान में सरकार भले कांग्रेस की हो और हाल ही में पार्टी राज्यसभा चुनाव में अपने तीनों प्रत्याशी जिताने में पार्टी सफल रही हो, लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में गणित अलग रहने वाला है. वोट वैल्यू के आधार पर यहां एनडीए प्रत्याशी ज्यादा वोट हासिल करने वाले हैं. क्योंकि एनडीए ने आदिवासी महिला को अपना प्रत्याशी घोषित किया है लिहाजा माना जा रहा है कि वह इस कार्ड के जरिए कांग्रेस के वोट बैंक में भी सेंध लगा सकती है.

सबसे पहले राज्य विधानसभा में दलीय स्थिति की बात करें तो कांग्रेस, निर्दलीय और सहयोगी दलों के मिलाकर कुल 126 विधायक हैं. वहीं भाजपा के पास 71 विधायक हैं जबकि 3 विधायक आरएलपी के हैं. जाहिर है कि विधानसभा में कांग्रेस का पलड़ा भारी है, लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में सांसद भी वोट करते हैं लिहाजा वोट वैल्यू के हिसाब से भाजपा का पलड़ा ज्यादा भारी हो जाता है.

ये है वोटों का गणित

– दरअसल एक सांसद की वोट वैल्यू 700 निर्धारित है

– जबकि राजस्थान में एक विधायक की वोट वैल्यू 129 ही है

– ऐसे में कांग्रेस के पास ज्यादा विधायक होने पर भी भाजपा का पलड़ा भारी रहेगा

– लोकसभा में भाजपा के 25 में से 24 सांसद और राज्यसभा में 10 में से 4 सांसद हैं

– इस तरह राजस्थान से सांसदों की कुल वोट वैल्यू 19 हजार 600 हो जाती है

– वहीं 71 विधायकों की वोट वैल्यू 9 हजार 159 होती है

– इस तरह प्रदेश में भाजपा की कुल वोट वैल्यू 28 हजार 759 हो जाती है

– वहीं कांग्रेस और समर्थित126 विधायकों की कुल वोट वैल्यू 16 हजार 254 होती है

– जबकि कांग्रेस के 6 राज्यसभा सांसदों की वोट वैल्यू 4200 होती है

– यानि कांग्रेस की कुल वोट वैल्यू 20 हजार 454 हो जाती है

गुप्त मतदान होगा

आरएलपी के एक सांसद और तीन विधायकों के वोट भी अगर एनडीए प्रत्याशी को मिलते हैं तो भाजपा की वोट वैल्यू 29 हजार 846 हो जाती है. उधर कांग्रेस ने भले ही राज्यसभा चुनाव में 126 विधायकों के वोट लिए हों और भाजपा के एक विधायक से क्रॉस वोटिंग करवाने में भी सफलता पाई हो लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में इस प्रदर्शन को बरकरार रखना मुश्किल होगा. दरअसल एनडीए द्वारा आदिवासी प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारने से न केवल कांग्रेस के सहयोगी दल बल्कि कांग्रेस के भी कुछ विधायक पसोपेश में होंगे. आदिवासी बाहुल्य सीटों से जीतकर आने वाले विधायकों पर आदिवासी प्रत्याशी को सपोर्ट करने का दबाव होगा. भारतीय ट्राइबल पार्टी के दो विधायकों ने राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस का साथ दिया लेकिन राष्ट्रपति चुनाव में उन पर आदिवासी प्रत्याशी को वोट करने का दबाव होगा.

ये भी पढ़ें: बेटे की मौत के बाद डिप्रेशन में थीं द्रौपदी मुर्मू, फिर किया अध्यात्म का रुख, राजस्थान से है खास रिश्ता  

राज्यसभा चुनाव में विधायकों को अपना वोट अपने दल के एजेंट को दिखाकर डालना होता है जबकि राष्ट्रपति चुनाव में गुप्त मतदान होता है. ऐसे में आदिवासी समुदाय के ताल्लुक रखने वाले कुछ विधायकों का मन डांवाडोल हो सकता है और वो आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली प्रत्याशी को वोट कर सकते हैं. प्रदेश में शेड्यूल ट्राइब्स के लिए 25 सीटें रिजर्व हैं. इनमें से 13 कांग्रेस विधायक हैं. कांग्रेस का सहयोग कर रहे बीटीपी के दो विधायकों के साथ ही दो निर्दलीय विधायक भी एसटी के लिए रिजर्व सीट से जीते हुए हैं. वहीं कांग्रेस के 3 और निर्दलीय 3 विधायक ऐसे हैं जो आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखते हैं लेकिन सामान्य सीट से जीतकर आए हैं. इनमें से कुछ विधायकों का मन अगर डांवाडोल होता है तो भाजपा को इसका फायदा मिलेगा और पहले से ही वोट वैल्यू में पिछड़ रही कांग्रेस और ज्यादा पिछड़ जाएगी.

Tags: Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर