पुजारी हत्याकांड: सतीश पूनिया ने गठित की 3 सदस्यीय जांच कमेटी, साक्ष्य जुटाने के लिए जाएगी गांव

यह कमेटी पुजारी बाबूलाल वैष्णव की मौत के मामले की तथ्यात्मक रिपोर्ट तैयार कर डाॅ. सतीश पूनियां को सौंपेगी. (फाइल फोटो)
यह कमेटी पुजारी बाबूलाल वैष्णव की मौत के मामले की तथ्यात्मक रिपोर्ट तैयार कर डाॅ. सतीश पूनियां को सौंपेगी. (फाइल फोटो)

इस कमेटी में जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा (MP Ramcharan Bohra), राष्ट्रीय मंत्री एवं पूर्व विधायक डाॅ. अलका सिंह गुर्जर, भाजयुमो के पूर्व प्रदेश महामंत्री जितेन्द्र मीणा शामिल हैं.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के करौली जिले (Karauli District) में पुजारी हत्याकांड (Priest Murder) मामले को लेकर राजनीति धीरे-धीरे तेज होती जा रही है. अब खबर है कि राजस्थान बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनिया (Satish Punni) ने पार्टी की तीन सदस्यीय जांच कमेटी (Inquiry Committee) का गठन किया है. यह कमेटी शनिवार को सपोटरा के बूकना गांव (Bukna Village) में जाकर पुजारी हत्याकांड से जुड़े सभी साक्ष्यों को जुटाएगी. इस कमेटी में जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा (MP Ramcharan Bohra), राष्ट्रीय मंत्री एवं पूर्व विधायक डाॅ. अलका सिंह गुर्जर और भाजयुमो के पूर्व प्रदेश महामंत्री जितेन्द्र मीणा शामिल हैं. यह कमेटी पुजारी बाबूलाल वैष्णव की मौत के मामले की तथ्यात्मक रिपोर्ट तैयार कर डाॅ. सतीश पूनिया को सौंपेगी. पुजारी बाबूलाल वैष्णव की जिंदा जलाने के मामले में भाजपा ने कानून- व्यवस्था के मामले में गहलोत सरकार पर निशाना साधा है.

वहीं, कुछ देर पहले खबर सामने आई थी कि राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा (Dr. Kirori Lal Meena) भी बूकना गांव पहुंच चुक हैं. उन्होंने पीड़ित परिवारजनों से मिल कर सांत्वना दी है. साथ ही उन्होंने पुलिस अधिकारियों के साथ भी मुलाकात करेंगे. सांसद ने पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायता और न्याय दिलाने की मांग रखी है. साथ ही उन्होंने घटना की कड़े शब्दों की निंदा की है. वहीं, सांसद के अलावा गंगापुर के पूर्व विधायक मानसिंह मीणा भी डॉक्टर किरोड़ी मीणा के साथ बूकना पहुंचे हैं. उन्होंने पीड़ित परिवार के साथ मिलकर न्याय की मांग की है. वहीं, डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा ने कहा है कि राहुल गांधी को बूकना में आकर पीड़ित परिवार से मिलना चाहिए.

न्याय नहीं मिलने तक वे मौके पर डटे रहेंगे
डॉक्टर किरोड़ी मीणा ने कहा है कि न्याय नहीं मिलने तक वे मौके पर डटे रहेंगे. वे हर हाल में परिवार का साथ देंगे. जानकारी के मुताबिक, उन्होंने खुद पीड़ित परिवार को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी है. उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा सहायता नहीं मिलने तक वे मौके पर डटे रहेंगे. उन्होंने सरकार के साथ-साथ जिले के पुलिस- प्रशासन को भी कड़े शब्दों में चेतावनी दी है. मौके पर एसडीएम, तहसीलदार व पुलिस जाब्ता मौजूद था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज