कौमी एकता कॉन्फ्रेंस: एकता से ज्यादा सियासत रही हावी, बीजेपी पर साधे निशाने

जयपुर में रविवार को पीस सोसायटी की ओर से आयोजित कौमी एकता कॉन्फ्रेंस में एकता से ज्यादा सियासत हावी रही.

Goverdhan Chaudhary | News18 Rajasthan
Updated: September 16, 2018, 8:45 PM IST
कौमी एकता कॉन्फ्रेंस: एकता से ज्यादा सियासत रही हावी, बीजेपी पर साधे निशाने
कॉन्फ्रेंस में मंचस्थ नेता। फोटो: न्यूज18 राजस्थान
Goverdhan Chaudhary | News18 Rajasthan
Updated: September 16, 2018, 8:45 PM IST
जयपुर में रविवार को पीस सोसायटी की ओर से आयोजित कौमी एकता कॉन्फ्रेंस में एकता से ज्यादा सियासत हावी रही. कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने भाजपा के खिलाफ एकजुट होने की अपील की. सम्मेलन में कांग्रेस के पक्ष में चुनावी माहौल बनाने की कवायद की गई.

सम्मेलन में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों का अच्छा खासा जमावड़ा रहा. मुस्लिम, ईसाई और हिंदू धर्मगुरुओं ने कौमी एकता की वकालत करते हुए लोगों से एकता बनाए रखने की अपील जरूर की, लेकिन ज्यादातर वक्ताओं के निशाने पर भाजपा और केंद्र सरकार रही. कांग्रेस के संगठन महासचिव अशोक गहलोत ने कहा कि एक वोट से वाजपेयी सरकार गिर सकती है. सीपी जोशी एक वोट से हार सकते हैं तो आप एक वोट की कीमत समझ सकते हैं.

पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने सीएम राजे पर निशाना साधते हुए कहा कि सीएम की सभाओं ने काला कपड़ा पहनकर आने पर रोक का फरमान जारी कर दिया गया. हमारी कांग्रेस की सभाओं ने आप किसी भी रंग का कपड़ा पहनकर आ सकते हैं. वहीं लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस ड्राइविंग सीट पर है. हम सब मिलकर कांग्रेस का साथ देना चाहते हैं.

सम्मेलन में कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, सहप्रभारी विवेक बंसल, काजी निजामुद्दीन, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, पूर्व राज्यपाल जगन्नाथ पहाड़िया और डॉ. कमला बेनीवाल सहित कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर