Assembly Banner 2021

राजस्थान में बोले राहुल, PM 40 फीसदी से छीनकर चुनिंदा लोगों को देना चाहते हैं कृषि व्यापार

राजस्थान के नागौर जिले के मकराना में किसान महापंचायत को राहुल गांधी ने संबोधित किया. (फाइल फोटो)

राजस्थान के नागौर जिले के मकराना में किसान महापंचायत को राहुल गांधी ने संबोधित किया. (फाइल फोटो)

राहुल गांधी ने कहा कि कृषि का व्यापार 40 फीसदी लोगों का है. केंद्र सरकार ये कानून इसलिए लाई है कि ये व्यापार 40 फीसदी आबादी से छीन कर चुनिंदा लोगों को दे दिया जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2021, 8:34 PM IST
  • Share this:
जयपुर. केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ शनिवार को राहुल गांधी ने नागौर जिले के मकराना में किसान महापंचायत को संबोधित किया. इस मौके पर राहुल गांधी ने कहा कि देश में सबसे बड़ा व्यापार कृषि ही है और ये केवल हिंदुस्तान में ही नहीं है, बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा व्यापार है. उन्होंने कहा कि बाकी के व्यापार को चुनिंदा लोग चलाते हैं, जबकि कृषि के व्यापार में ऐसा नहीं है. कृषि का व्यापार 40 फीसदी लोगों का है. केंद्र सरकार ये कानून इसलिए लाई है कि ये व्यापार 40 फीसदी आबादी से छीनकर चुनिंदा लोगों को दे दिया जाए. राहुल गांधी ने कहा कि पहले कृषि कानून के कारण मंडियां खत्म और बन्द हो जाएंगी. मतलब किसानों को लाभ देने के बजाए उसे खत्म कर दो. दूसरे कानून का मकसद पूंजीपतियों को जमाखोरी की छूट देना है. इस कानून के तहत जितना भी स्टॉक चाहे स्टोरेज में डाल सकते हैं. इसे अनलिमिटेड जमाखोरी कहते हैं.

उद्योगपतियों के लिए रास्ता साफ किया जा रहा

राहुल गांधी ने कहा कि लोग सोचते हैं कि किसान का नुकसान है, तो हमें क्या लेना-देना है. लेकिन ऐसा नहीं है. उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने सिर्फ बेरोजगारी और आत्महत्या का आप्शन दिया है. आपका भविष्य आपसे छीना जा रहा है. शुरुआत इसकी नोटबन्दी और जीएसटी से हुई थी. मध्यम वर्ग के व्यापार को छीन लिया गया और अब चुनिंदा उद्योगपतियों के लिए रास्ता साफ किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में गरीबों ने हाथ जोड़कर बस और ट्रेन का टिकट मांगा था, लेकिन पीएम ने वह भी नहीं दिया. राहुल गांधी ने कहा कि मेरी जिमेदारी आपको सच बताना है. चाहे आप सुनो या नहीं, लेकिन मैं तो जिम्मेदारी पूरी करूंगा. मैंने कहा था कोरोना से बड़ा नुकसान होने वाला है.



संसद में दो मिनट के मौन में भी नहीं खड़े हुए बीजेपी के लोग
राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री किसानों को आन्दोलनजीवी कह कर मजाक उड़ा रहे हैं. मैंने संसद में कहा था कि बजट पर नही बोलूंगा. बल्कि कानूनों के खिलाफ बोलूंगा. चाहे मुझे संसद से निकाल दो. राहुल ने कहा कि 200 किसान शहीद हुए पर लोकसभा और राज्यसभा में 2 मिनट का मौन नहीं रखा गया. मैंने कहा था कि मेरे भाषण के बाद 2 मिनट खड़ा हो जाऊंगा और मौन के लिए जो साथ देना चाहता है वे खड़े हो जाएं. पर कोई मंत्री या बीजेपी का सांसद खड़ा नहीं हुआ. जबकि विपक्ष के लोग खड़े हो गए थे. राहुल ने सभा में मौजूद लोगों से पूछा कि क्या मैंने 2 मिनट खड़े होकर कोई गलती की है. यदि की है तो फिर करूंगा और आगे भी करूंगा. किसान महापंचायत को अशोक गहलोत ने संबोधित करते हुए कहा कि देश का दुर्भाग्य है कि ऐसे लोग देश की सत्ता में बैठे हैं, जिन्होंने सरकार गिराने का प्रयास किया. सीबीआई और ईडी सब पर सरकार का दबाव है. सभा को सचिन पायलट ने भी संबोधित किया.

राहुल गांधी ने किए देव दर्शन

मकराना में किसान महापंचायत में पहुंचने से पहले राहुल गांधी ने सुरसुरा गांव में तेजाजी मंदिर के दर्शन भी किए. राहुल गांधी किशनगढ़ एयरपोर्ट से सीधे सुरसुरा पहुंचे और वहां लोक देवता तेजाजी के दर्शन किये. इस दौरान राहुल गांधी ने पूजा-अर्चना भी की. राहुल गांधी का मंदिर कमेटी की ओर से स्वागत भी किया गया और उन्हें तेजाजी का चित्र भी भेंट किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज