होम /न्यूज /राजस्थान /जयपुर में नकली शराब की फैक्ट्रियों पर छापेमारी, ऑटोमेटिक मशीन से तैयार हो रहा था दारू

जयपुर में नकली शराब की फैक्ट्रियों पर छापेमारी, ऑटोमेटिक मशीन से तैयार हो रहा था दारू

जयपुर में नकली फैक्ट्रियों पर छापेमारी में कई गिरफ्तार हुए हैं. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

जयपुर में नकली फैक्ट्रियों पर छापेमारी में कई गिरफ्तार हुए हैं. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Jaipur News: जयपुर पुलिस ने महंगे दामों वाले ब्रांड के रैपर लगाकर बाजार में बैची जा रही नकली शराब को लेकर बड़ी कामयाबी ...अधिक पढ़ें

    विष्णु शर्मा

    जयपुर. राजधानी जयपुर में पुलिस ने इस साल की शुरुआत में नकली शराब के खिलाफ सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए 4 फैक्ट्रियों पर छापेमारी की. मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार करते हुए भारी मात्रा में नकली शराब बरामद की है, जो कि महंगे दामों वाले ब्रांड के रैपर लगाकर बाजार में बेची जा रही थी. पुलिस को सर्च कार्रवाई के दौरान ऑटोमेटिक मशीन से फैक्ट्रियों में ऐसी तैयार शराब भी मिली है जो कि सिर्फ सीएसडी कैंटीन में ही बेची जा सकती है. मामले में पुलिस कमिश्नरेट ने दो पुलिस थानों के 4 बीट कांस्टेबल की लापरवाही मानते हुए निलंबित कर दिया. वहीं शिवदासपुरा और सांगानेर सदर थानाप्रभारी सहित बीट प्रभारियों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए है.

    Jaipur Police, Rajasthan News, Rajasthan Police, Illicit Liquor, raid on spurious liquor factories, Deaths due to illicit liquor,

    इसी फैक्ट्री से नकली शराब बनाकर बाजारों में बैची जा रही थी.

    सीएसटी के कांस्टेबल अजय को मिली थी नकली शराब बनाने की सूचना
    अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा के मुताबिक जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के सीएसटी में शामिल कांस्टेबल अजय को 10 दिन पहले सूचना मिली थी कि सांगानेर सदर इलाके में शिकारपुरा गांव में नकली शराब बनाने का कारखाना व गोदाम है. जहां ऑटोमेटिक मशीन से स्प्रिट व पानी मिक्स कर नकली शराब तैयार की जा रही थी. तब सीएसटी की टीम ने देर रात किराए के मकान में चल रही फैक्ट्री पर छापा मारा.

    सिर्फ सीएसडी कैंटीन में बिकने वाली शराब के रैपर मिलना बेहद डराने वाला
    एडिशनल डीसीपी सुलेश चौधरी के मुताबिक बाजार में उपलब्ध शराब के नामी ब्रांड के रैपर मिले है. खासतौर पर सीएसडी कैंटीन में बिकने वाली शराब के रैपर मिले है. ये एक भयभीत करने वाला मामला है, क्योंकि मार्केट में लोग इस ब्रांड को ओरिजनल मानकर खरीदते है. ये ब्रांडेड रैपर कहां से मिले इस पूरे गिरोह में शामिल सभी लोगों की भूमिका की जांच कर कार्रवाई की जाएगी.

    सितंबर से किराए पर लिया था, लापरवाही पर 4 बीट कांस्टेबल निलंबित
    पिछले साल सितंबर में शराब माफियाओं ने शिकारपुरा गांव में फैक्ट्री के लिए जगह किराए पर ली थी. इसके बाद अन्य 3 जगह फैक्ट्री किराए पर ली, लेकिन यह मामला ऐसा प्रतीत नहीं होता कि स्थानीय पुलिस या बीट कांस्टेबल को इसकी भनक नहीं लगे. इसी को मद्देनजर रख स्थानीय पुलिस की गलती मानते हुए 4 बीट कांस्टेबल को निलंबित कर दिया गया है. वहीं, शिवदासपुरा व सांगानेर सदर थानाप्रभारी सहित बीट प्रभारियों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए है.

    ये है शराब फैक्ट्री चलाने वाले दो माफिया
    हिरासत में लिए गए 10 लोगों ने पूछताछ में बताया कि शराब माफिया अशोक चौधरी व रवि बालोद है. ये दोनों किराए पर ली गई जगह पर शराब की फैक्ट्रियां व गोदाम ऑपरेट कर रहे थे. पुलिस ने चार भूखंड किराए पर देने वाले लोगों को भी नामजद किया है.

    Tags: Jaipur news, Rajasthan news, Rajasthan police

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें