Home /News /rajasthan /

जयपुर जंक्शन: रेल यात्रियों का यहां रोज होता है इस 'अनोखी आफत' से सामना, आप सतर्क रहें

जयपुर जंक्शन: रेल यात्रियों का यहां रोज होता है इस 'अनोखी आफत' से सामना, आप सतर्क रहें

यहां 1 से पहले ही 6 और 7 नंबर प्लेटफॉर्म आ जाते हैं. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

यहां 1 से पहले ही 6 और 7 नंबर प्लेटफॉर्म आ जाते हैं. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) में जयपुर जंक्शन (Jaipur Junction) पर यार्ड रिमॉडलिंग (Yard remodeling) के दौरान किया गया एक बड़ा बदलाव (Big change) रेल यात्रियों (Railway passengers) के लिए बड़ी परेशानी (Big problem) का सबब बना हुआ है.

अधिक पढ़ें ...
जयपुर. उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) में जयपुर जंक्शन (Jaipur Junction) पर यार्ड रिमॉडलिंग (Yard remodeling) के दौरान किया गया एक बड़ा बदलाव (Big change) रेल यात्रियों (Railway passengers) के लिए बड़ी परेशानी (Big problem) का सबब बना हुआ है. इस बदलाव के कारण आजकल यात्री रेल पकड़ने के फेर में इधर से उधर भागते फिरते हैं. इस परेशानी का कारण है जयपुर जंक्शन पर प्लेटफॉर्मों का बदला गया क्रम . रेल प्रबंधन (Railway management) के इस बदलाव के बाद जयपुर जंक्शन संभवतया देश (Country) का ऐसा पहला स्टेशन बन गया है, जहां प्लेटफॉर्म का क्रम उल्टा (Reverse order of platforms) है.

यहां 1 नंबर से पहले ही हैं 6 और 7 नंबर प्लेटफॉर्म
यात्रीभार को देखते हुए जयपुर जंक्शन पर दो नए प्लेटफॉर्म बनाए गए हैं ताकि ज्यादा रेलों का आवागमन हो सके. आमतौर पर किसी भी रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म क्रम में बने होते हैं. 1 के बाद 2 नंबर और इसी तरह 3, 4 और 5. इस क्रम से साफ पता चलता है कि एक के बाद ही दूसरा और तीसरा आएगा, लेकिन जयपुर जंक्शन पर ऐसा नहीं है. यहां 1 से पहले ही 6 और 7 नंबर प्लेटफॉर्म आ जाते हैं. इससे रेलयात्रियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

यात्री की ट्रेन अक्सर छूट जाती है
जब यात्री प्लेटफॉर्म पर खड़ा अपनी ट्रेन का इंतज़ार कर रहा होता है तभी एनाउंस होता है कि प्लेटफॉर्म नंबर 1 पर आने वाली गाड़ी प्लेटफॉर्म नंबर 6 पर आएगी. यात्री ट्रेन छूटने के डर से बेतहाशा दौड़ लगाते हुए एक नंबर से दूसरे और तीसरे प्लेटफॉर्म होते हुए छठे नंबर के प्लेटफॉर्म पर पहुंचने की कोशिश करता है. लेकिन पांचवें नंबर पर पहुंचते ही प्लेटफॉर्म खत्म हो जाते हैं. वहां पहुंचने पर उसे पता चलता है कि 6 और 7 नंबर तो 1 नंबर से भी पहले हैं. अब वो फिर वहां से दौड़ लगाता हुआ 6 नंबर प्लेटफार्म पर पहुंचता है. इसी भागमदौड़ में यात्री की ट्रेन अक्सर छूट जाती है.

बुजुर्ग यात्रियों के लिए है बड़ी परेशानी
इस समस्या का सबसे ज्यादा सामना करना पड़ा रहा है बुजुर्ग रेलयात्रियों को. रेल आने का निर्धारित प्लेटफॉर्म अक्सर अंतिम समय में बदल जाता है. ये देश के हर रेलवे स्टेशन पर आम बात है. ऐसे में जब बुजुर्ग लोग 1 से 7 नंबर प्लेटफार्म पर जाने की कोशिश करते हैं तो उनको आने जाने में लंबा समय लग जाता है और ट्रेन छूट जाती है. ऐसा नहीं है कि 5 नंबर के बाद 6 और 7 नंबर प्लेटफॉर्म नहीं बनाए जा सकते थे, लेकिन यार्ड रिमॉडलिंग में विकास को तेजी से तवज्जो देते हुए NWR ने यह बड़ी चूक जयपुर जंक्शन पर कर दी.

यात्रियों को रोज़ उल्टी दौड़ लगानी पड़ती है
संभवत जयपुर जंक्शन NWR के साथ साथ देश का पहला रेलवे स्टेशन बन गया है जिसके प्लेटफॉर्म क्रम में उल्टे हो गए हैं. 6 और 7 नंबर प्लेटफॉर्म पर तो साफ लिखा गया है कि कौनसा प्लेटफॉर्म कहां पर है. लेकिन 1 से 5 नंबर पर आपको कहीं पता नहीं चलेगा कि 6 और 7 कहां है. अब यात्रियों को रोज़ उल्टी दौड़ लगानी पड़ती है. लेकिन तब तक ट्रेन को रवाना होने की हरी झंडी मिल चुकी होती है.

देश के 16 रेलवे जोन हुए इलेक्ट्रिफाइड, NWR को अभी करना पड़ेगा इंतजार

रेल यात्री ध्यान दें, कोटा रेल मंडल की इन ट्रेनों का शेड्यूल बदल गया है

Tags: Indian railway, Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर