• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • भारतीय सेना के गोपनीय दस्तावेज पाकिस्तान भेजता था रेलवे कर्मचारी, पाक की जासूस ने किया था हनीट्रैप

भारतीय सेना के गोपनीय दस्तावेज पाकिस्तान भेजता था रेलवे कर्मचारी, पाक की जासूस ने किया था हनीट्रैप

रेलवे कर्मचारी गोपनीय दस्तावेजों की फोटो खींच वाट्सएप पर पाकिस्तानी गुप्तचर को भेजता था. (इमेज- सांकेतिक)

रेलवे कर्मचारी गोपनीय दस्तावेजों की फोटो खींच वाट्सएप पर पाकिस्तानी गुप्तचर को भेजता था. (इमेज- सांकेतिक)

भारतीय रेल (Indian Railway) के एमटीएस विभाग के कर्मचारी को हनीट्रैप (Honeytrap) का शिकार बनाकर भारतीय सेना (Indian Army) के गोपनीय दस्तावेजों की फोटो पाकिस्तान (Pakistan) के गुप्तचर एजेंसियों द्वारा मंगाया जाता था.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) की राजधानी जयपुर (Jaipur) में देश की जासूसी के मामले में एक शख्स को गिरफ्तार (Arrest) किया गया है. मिलिट्री इंटेलिजेंस (Military Intelligence) दक्षिणी कमान और स्टेट इंटेलिजेंस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए आरोपी को हिरासत में लिया. अलग-अलग एजेंसियों द्वारा आरोपी से पूछताछ जारी है. मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी को हनीट्रैप (Honeytrap) का शिकार बनाकर भारतीय सेना (Indian Army) के सामरिक महत्व के गोपनीय दस्तावेजों की फोटो पाकिस्तान के गुप्तचर एजेंसियों द्वारा मंगाया जाता था. आरोपी से पूछताछ पूरी होने के बादकई और अहम जानकारियां मिल सकती हैं.

महानिदेशक पुलिस इंटेलिजेंस उमेश मिश्रा ने बताया कि पाकिस्तानी गुप्तचर एजेन्सी की महिला एजेन्ट के हनीट्रैप में आरोपी फंस गया था. भारतीय सेना के सामरिक महत्व के गोपनीय दस्तावेजों की फोटो खींचकर वाटस्एप द्वारा पाकिस्तानी हैण्डलर को भेजने के आरोप में जयपुर स्थित रेल्वे डाक सेवा के एमटीएस कर्मी भरत बावरी (27) को हिरासत में लिया गया है. मिलेट्री इंटेलिजेंस दक्षिणी कमान एवं स्टेट इंटेलिजेंस ने संयुक्त कार्रवाई और निगरानी के बाद आरोपी को हिरासत में लिया और उससे पूछताछ की जा रही है.

पूछताछ में कई खुलासे हुए
जयपुर के संयुक्त पूछताछ केन्द्र में एजेन्सियों द्वारा की जा रही पूछताछ में आरोपी भरत बावरी ने बताया कि वह जोधपुर के खेडापा गांव का रहने वाला है. 3 साल पहले ही एमटीएस परीक्षा के तहत रेल्वे डाक सेवा के जयपुर स्थित कार्यालय में पदस्थापित हुआ था. यहां वह आने जाने वाली डाक की छटनी करने का कार्य करता था. लगभग 4-5 माह पहले उसके मोबाइल के फेसबुक मैसेंजर पर महिला का मैसेज आया था. कुछ दिनों दोनों वाटस्एप पर वाइस कॉल व वीडियो कॉल से बात करने लगे.

छदम नाम की महिला ने अपने आप को पोर्ट ब्लेयर में नर्सिंग के बाद एमबीबीएस की तैयारी करना बताया और अपने किसी रिश्तेदार का जयपुर स्थित किसी अच्छी सी आर्मी यूनिट में स्थानान्तरण के बहाने आरोपी से धीरे-धीरे आर्मी के सम्बन्ध में आने वाले डाक के फोटो मंगवाना शुरू कर दिया. बाद में पाक महिला एजेन्ट ने आरोपी से जयपुर आकर मिलने और साथ धूमने के अलावा उसके साथ रूकने का झांसा देकर अपने फोटो भेजना शुरू कर दिया था.

हनीट्रैप में फंसाया
आरोपी को पूर्ण रूप से अपने मोहजाल में फंसाकर आर्मी के पत्रों की फोटो भेजने के लिए कहा. तब आरोपी ने चोरी छिपे गोपनीय डाक पत्रों के लिफाफे खोलकर पत्रों की फोटो खींचकर वाट्सएप से भेजने लगा. आरोपी के फोन की वास्तविक जांच में सभी तथ्यों की पुष्टि होने पर आरोपी के खिलाफ शासकीय गुप्त बात अधिनियम 1923 के तहत मामला दर्ज किया गया है. आरोपी ने पूछताछ पर यह भी बताया है कि उस महिला मित्र के चाहने पर अपनी स्वंय के नाम की एक सिम के मोबाइल नम्बर और वाटस्एप के लिए ओटीपी भी शेयर कर दिये ताकि भारतीय नम्बर में पाक महिला एजेन्ट अन्य छदम नाम से उपयोग कर अन्य लोगों तथा आर्मी के जवानों को अपना शिकार बना सके.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज