लाइव टीवी

'कमजोर की मदद के लिए हिंसा करने को जायज मानते थे महात्मा गांधी'

News18 Rajasthan
Updated: January 16, 2020, 11:37 AM IST
'कमजोर की मदद के लिए हिंसा करने को जायज मानते थे महात्मा गांधी'
महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर जयपुर में कार्यक्रम आयोजित हुआ. इसमें राजमोहन गांधी ने भी शिरकत की.

महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के पोते राजमोहन गांधी ने कहा है कि गांधी अहिंसा (Ahimsa) के पुजारी जरूर थे, लेकिन समय पड़ने पर कमजोर की मदद के लिए हिंसा करने को वह जायज मानते थे.

  • Share this:
जयपुर. पूरी दुनिया में महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) को अहिंसा (Ahimsa) के पुजारी के तौर पर जाना जाता है. लेकिन, बुधवार को गांधी की 150वीं जयंती पर जयपुर के एक होटल में आयोजित कार्यक्रम में गांधी के पोते राजमोहन ने कहा कि बापू अहिंसा के पुजारी जरूर थे, लेकिन समय पड़ने पर कमजोर की मदद के लिए हिंसा करने को वो जायज मानते थे. मौका था महात्मा गांधी की 150वीं जयंति पर आयोजित समारोह का और मुख्य अतिथी के तौर पर राज्यपाल कलराज मिश्र ने कार्यक्रम की शुरुआत में संविधान की प्रस्‍तावना को पढ़ा. प्रदेश के राज्‍यपाल ने कहा कि अब उन्‍होंने तय किया है कि जहां भी कार्यक्रम में जाऊंगा पहले संविधान की प्रस्‍तावना को पढूंगा. इस कार्यक्रम में देश दुनिया में जनसेवा का कार्य करने वाले महानुभावों को सम्मानित भी किया गया. एक सवाल के जवाब में उन्‍होंने कहा कि वो राजमोहन के हिंसा वाले बयान पर सहमति रखते हैं.

'गांधीजी को अफ्रीका में पीटा, तब कहा...'
इस कार्यक्रम में गांधीजी के पोते ने राजमोहन ने भी गांधी की जिंदगी से जुड़ी बातों को स्कूली बच्चों से साझा किया. एक पुरानी बात को याद करते हुए उन्होंने कहा कि एक बार गांधीजी को कुछ लोगों ने अफ्रीका में पीटा और इसी घटना के काफी समय बाद उनके बेटे हरिमोहन ने गांधी से पूछा कि अगर मैं आपके साथ उस समय होता तो क्या मुझे आपको बचाने के लिए हिंसा का सहारा लेना पड़ता? तो जवाब में गांधी ने कहा था, 'बिल्कुल, एक कमजोर की मदद करने के लिए हिंसा का सहारा लिया जा सकता है.'

अहिंसा का दूसरा पहलू उजागर

दुनिया की सारी किताबों और गांधी के अनुयायी हमेशा यही कहते आए हैं कि गांधी के लिए अहिंसा ही धर्म था. यह भी अक्सर कहा जाता है कि गांधीजी कहते थे कि अगर कोई आपके एक गाल पर थप्पड़ मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो. यही तस्वीर बच्चे-बच्चे के जहन में है, लेकिन गांधी की शख्सियत का दूसरा पहलू उनके पोते ने पूरी दुनिया के सामने उजागर किया.

ये भी पढ़ें- 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 8:38 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर