छात्रसंघ चुनाव: NSUI ने वसुंधरा सरकार पर लगाया चुनाव में दखल का आरोप

राजस्थान यूनिवर्सिटी में NSUI प्रत्याशी और संगठन के प्रदेशाध्यक्ष पर हुए हमले के पीछे एनएसयूआई ने बीजेपी का हाथ बताया है.

News18 Rajasthan
Updated: August 30, 2018, 3:28 PM IST
News18 Rajasthan
Updated: August 30, 2018, 3:28 PM IST
राजस्थान यूनिवर्सिटी कैम्पस में बुधवार रात एनएसयूआई के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी रणवीर सिंघानिया और संगठन के प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यु पूनिया पर हुए हमले के बाद सियासत तेज हो गई है. NSUI ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए बीजेपी सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कि उनपर हमला करवा कर यह साबित किया गया किसी भी प्रकार इस संगठन और इसके पदाधिकारियों को कमजोर किया जाए. यह भी आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय प्रशासन पूरी तरह से इस सरकार के दबाव में काम कर रहा है.

ये भी पढ़ें- NSUI नेताओं पर हमले के बाद राजस्थान यूनिवर्सिटी में पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाई

प्रदेशाध्यक्ष पूनिया ने कहा कि एनएसयूआई के सामने यह छात्रसंघ चुनाव एबीवीपी नहीं वसुंधरा राजे, सरकार लड़ रही है. कल हॉस्टल से यूनिवर्सिटी गेट तक आते समय असामाजिक तत्वों द्वारा हम पर हमला करवा कर यह साबित किया गया कि भी प्रकार इस संगठन और संगठन के पदाधिकारियों को कमजोर किया जाए.

ABVP ने बताया एनएसयूआई का ड्रामा

एनएसयूआई प्रत्याशी और प्रदेशाध्यक्ष पर हमले के पूरे मामले को एबीवीपी ने ड्रामा करार दिया है. संगठन के प्रांत संगठन मंत्री अर्जुन तिवारी ने कहा है कि एनएसयूआई नहीं आरोपियों की गिरफ्कतारी की मांग नहीं कर रही है. सीसीटीवी फुटेज उपलब्ध करवाने की भी कोई मांग नहीं हो रही है. इससे एनएसयूआई की मंशा पर सवाल उठे हैं. एनएसयूआई पदाधिकारियों को किसी तरह की चोट नहीं आई है कपड़ों पर खून की जगह लाल रंग लगा है. एनएसयूआई मेडिकल रिपोर्ट क्यों नहीं जारी कर रही? धरना देने की बजाय थाने का घेराव क्यों नहीं किया जा रहा? तिवारी ने कहा है कि एबीवीपी आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कुलपति को ज्ञापन सौंपने जा रही है.

ये भी पढ़ें- राजस्थान यूनिवर्सिटी में ABVP और NSUI कार्यकर्ता आमने-सामने

उधर, राजस्थान में छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान से एक दिन पहले बुधवार रात जयपुर में एनएसयूआई प्रदेशाध्यक्ष और राजस्थान यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष प्रत्याशी पर हमले के बाद मामला गर्मा गया है. यूनिवर्सिटी कैम्पस में इस हमले के बाद तनाव के माहौल को देखते हुए पुलिस ने भी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है. जयपुर पुलिस ने अपनी कमर कसते हुए विशेष टीमें बनाकर संदिग्ध लोगों पर भी निगरानी शुरू कर दी है. उधर, छात्रसंघ चुनाव में कोई बाहरी व्यक्ति आकर किसी भी तरह की अव्यवस्था ना उत्पन्न करें उसका भी विशेष ध्यान पुलिस के द्वारा रखा जा रहा है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर