देश के टॉप 50 असरदार ब्यूरोक्रेट्स में राजस्थान के 2 अधिकारियों को मिली जगह, जानें क्या है नाम

देशभर में 5200 से अधिक आईएएस अधिकारी विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं, जिनमें से 50 को असरदार के तौर पर चुना गया है. (सांकेतिक फोटो)

देशभर में 5200 से अधिक आईएएस अधिकारी विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं, जिनमें से 50 को असरदार के तौर पर चुना गया है. (सांकेतिक फोटो)

भीलवाड़ा मॉडल (Bhilwara Model) जैसे त्वरित फैसले लेकर रोहित कुमार सिंह जुलाई में एक्टिव केस से नीचे ले आए थे. रोहित कुमार सिंह ने पंचायतीराज विभाग में कई नवाचार भी किए.

  • Share this:

जयपुर. राष्ट्रीय स्तर के ब्यूरोक्रेट्स के सर्वे में राजस्थान (Rajasthan) के 2 आईएएस टॉप (IAS Top) 50 ब्यूरोक्रेट्स में शामिल हुए हैं. फेम इंडिया मैगजीन (Fame India Magazine) की तरफ से करवाए गए राष्ट्रीय सर्वे में राज्य ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह और मुख्यमंत्री कार्यालय में प्रमुख सचिव कुलदीप रांका (Kuldeep Ranka) को देश के टॉप 50 ब्यूरोक्रेट्स में चुना गया है. फेम इंडिया की तरफ से वर्ष 2020 में असरदार ब्यूरोक्रेट्स का सर्वे करवाया गया था.

देशभर में 5200 से अधिक आईएएस अधिकारी विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं, जिनमें से 50 को असरदार के तौर पर चुना गया है. राजस्थान कैडर के कुल 240 आईएएस में से टॉप स्थान पर रोहित कुमार सिंह रहे. उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख़्य सचिव रहते हुए कोरोना काल में श्रेष्ठ प्रबंधन किया. मार्च में आया कोरोना पूरी तरह कंट्रोल में आ गया था.

रोहित कुमार सिंह ने किए कई नवाचार

भीलवाड़ा मॉडल जैसे त्वरित फैसले लेकर रोहित कुमार सिंह जुलाई में एक्टिव केस से नीचे ले आए थे. रोहित कुमार सिंह ने पंचायतीराज विभाग में कई नवाचार भी किए. प्रदेश के आईएएस में दूसरा स्थान मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव कुलदीप रांका का सीएमओ बेस्ट मैनेजमेंट और लोगों को त्वरित राहत के लिए रहा. फेम इंडिया का कहना है कि सर्वे एजेंसी एशिया पोस्ट के साथ मिलकर इस सर्वे कार्य को वैज्ञानिक तरीके से अंजाम दिया गया. इस सर्वे में 1984 से 1995 तक के ब्यूरोक्रेट्स को शामिल किया गया.
सर्वे में ये मापदंड रखे गए

देशभर के आईएएस के कार्य और प्रोग्रेस को लेकर करवाए गए इस सर्वे में 7 मानदंडों पर परखा गया. इसमें शानदार गवर्नेंस, दूरदर्शिता, उत्कर्ष सोच, जवाबदेही और कार्यशैली शामिल थे. साथ ही अहम फैसले लेने की त्वरित क्षमता. गंभीरता एवं व्यवहार कुशलता को आधार मानकर बनाकर सर्वे किया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज