लाइव टीवी

राजस्थान के 12,943 गांव अभावग्रस्त घोषित, CM गहलोत ने केंद्र से मांगी 2645 करोड़ रुपए की सहायता

News18Hindi
Updated: November 7, 2019, 3:12 PM IST
राजस्थान के 12,943 गांव अभावग्रस्त घोषित, CM गहलोत ने केंद्र से मांगी 2645 करोड़ रुपए की सहायता
राजस्थान सरकार ने 2645 करोड़ रुपए की सहायता राशि की मांग की है.

मानसून सीजन में हुए भारी नुकसान के आंकलन के बाद राजस्थान (Rajasthan) की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय आपदा राहत कोष (NDRF) से लगभग 2645 करोड़ रुपए की सहायता राशि उपलब्ध कराने की मांग की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2019, 3:12 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने मानसून सीजन में हुए भारी नुकसान (अत्याधिक भारी वर्षा/बाढ़) के चलते केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय आपदा राहत कोष (एनडीआरएफ) National Disaster Relief Fund (NDRF) से लगभग 2645 करोड़ रुपए की सहायता राशि उपलब्ध कराने की मांग की है. मुख्यमंत्री गहलोत ने गुरुवार को इसके लिए केन्द्र को भेजे जाने वाले ज्ञापन को स्वीकृति (approved the quantum of assistance) दे दी है. मुख्यमंत्री कार्यालय में आपदा प्रबंधन एवं सहायता विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने इस ज्ञापन  को मंजूरी दी. केन्द्र सरकार से फसलों को हुए नुकसान के मुआवजे के रूप में किसानों को कृषि आदान अनुदान देने के लिए करीब 1642 करोड़ रुपए और भूमि कटाव से हुए नुकसान के मुआवजे के लिए 369 करोड़ रुपए की मांग की गई है साथ ही सार्वजनिक निर्माण विभाग सहित अन्य विभागों की ओर से क्षतिग्रस्त सड़कों, पुलों आदि की मरम्मत के लिए एसडीआरएफ के नियमों के तहत् लगभग 395 करोड़ रुपए मांगे गए हैं.

18 जिलों के 12,943 गांव अभावग्रस्त घोषित
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि ज्ञापन भेजने के बाद केन्द्र सरकार के सम्बन्धित विभाग के साथ समन्वय कर यह सहायता राशि जल्द जारी करवाने के प्रयास करें, ताकि प्राकृतिक आपदा से प्रभावित हुए लोगों को शीघ्र राहत एवं सहायता राशि उपलब्ध कराई जा सके. शासन सचिव, आपदा प्रबन्धन विभाग सिद्धार्थ महाजन ने बैठक में अवगत कराया कि इस वर्ष मानसून के दौरान प्रदेश के अधिकांश जिले अत्यधिक वर्षा से प्रभावित रहे जहां विभिन्न आपदा राहत गतिविधियां चलाई गई. राज्य के 18 जिलों के 12,943 गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया गया है. आपदा से 49 लाख से अधिक काश्तकार प्रभावित हुए हैं, जिनको कृषि आदान अनुदान राशि वितरित की जानी है.

बिजली आपूर्ति, ड्रेनेज और जान-माल के नुकसान का आंकलन

आपदा प्रबंधन एवं सहायता विभाग द्वारा तैयार ज्ञापन में शहरी क्षेत्र में क्षतिग्रस्त ड्रेनेज की मरम्मत तथा बिजली आपूर्ति में सुधार कार्यों के लिए भी राशि मांगी गई है. इसके लिए सर्वे और गिरदावरी करवाकर बारिश और इससे जुडे़ हादसों से जान-माल, पशुधन, फसलों और अन्य परिसम्पतियों को हुए नुकसान का आंकलन किया गया है. महाजन ने बताया कि भारी वर्षा, जल-भराव/बाढ़ से मानव जीवन, पशुधन, आवासीय भवनों, कैटलशेड एवं सार्वजनिक परिसम्पतियों जैसे आंगनबाड़ी केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र आदि को हुए वास्तविक नुकसान का आकलन कर उसके आधार पर नियमानुसार सहायता राशि की मांग भी ज्ञापन में शामिल है.

ये भी पढ़ें-
ISI एजेंट दिखाती थी अश्लील डांस, हनीट्रैप में फंसा सेना का जवान गिरफ्तार
Loading...

शादी के 21 साल बाद दहेज लौटाने पहुंचा पूर्व फौजी, चार को गोली मारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 3:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...