राजस्थान विधानसभा उपचुनाव: राजसमंद और सुजानगढ़ में हनुमान बेनीवाल ने BJP के खिलाफ खेला ये बड़ा दांव

बेनीवाल ने लोकसभा चुनाव एनडीए गठबंधन से लड़ा था. उस समय बीजेपी ने नागौर सीट आरएलपी को दी थी. उस पर बेनीवाल विजयी हुये थे.

बेनीवाल ने लोकसभा चुनाव एनडीए गठबंधन से लड़ा था. उस समय बीजेपी ने नागौर सीट आरएलपी को दी थी. उस पर बेनीवाल विजयी हुये थे.

Rajasthan Assembly by-election: इन चुनावों में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रमुख हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) बीजेपी को चारो खाने चित्त करने के लिये पूरा जोर लगाये हुये हैं. इसके लिये उन्होंने राजसमंद और सुजानगढ़ समेत सहाड़ा में बीजेपी के वोट बैंक में सेंधमारी करने का पूरा जुगाड़ किया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में तीन सीटों पर हो रहे उपचुनाव (Rajasthan Assembly by-election) अब दिन-प्रतिदिन रोचक होते जा रहे हैं. तीनों सीटों पर बीजेपी और कांग्रेस (BJP & Congress) के अलावा राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) के मैदान में कूद जाने से अब दोनों प्रमुख पार्टियां सचेत हो गई है. केन्द्रीय कृषि कानूनों को लेकर एनडीए से नाता तोड़ने वाले आरएलपी प्रमुख हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) बीजेपी को झटका देने के लिये पुख्ता तैयारी करके मैदान में उतरे हैं. बेनीवाल ने तीनों सीटों ऐसे मोहरे फिट किये हैं जिससे बीजेपी अपनी रणनीति पर पुर्नविचार करने को मजबूर हो गई है.

राजसमंद सीट पर कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियों के प्रत्याशी एक ही जाति से है. यहां बेनीवाल ने गुर्जर समुदाय से प्रहलाद खटाना को टिकट देकर बीजेपी की उम्मीद को झटका देने की कोशिश की. दरअसल राजसमंद में करीब 15 हजार गुर्जर मतदाता है. सचिन पायलट की नाराजगी के चलते बीजेपी को उम्मीद है कि गुर्जर मतदाता इस बार कांग्रेस के बजाय बीजेपी को वोट देंगे.

राजसमंद में बेनीवाल ने प्रहलाद खटाना को उतारा

बीजेपी ने गुर्जर मत अपने पाले में लाने के लिए गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के बेटे विजय बैंसला को गुर्जर बहुल इलाकों में चुराव प्रचार के लिए उतारा है. लेकिन इस बीच हनुमान बेनीवाल ने उसमें खलल डाल दिया. बेनीवाल ने यहां से प्रहलाद खटाना को मैदान में उतार कर बीजेपी को डरा दिया है. कांग्रेस ने डैमेज कंट्रोल के लिए सचिन पायलट को गहलोत के साथ चुनाव में उतारा है. राजसमंद से बीजेपी ने दिवंगत बीजेपी विधायक किरण माहेश्वरी की बेटी दीप्ती माहेश्वरी को तो कांग्रेस ने तनसुख बोहरा को टिकट दिया है.
सुजानगढ़ में बीजेपी के वोट बैंक में सेंधमारी की तैयारी

सुजानगढ़ सीट पर भी बेनीवाल ने सीताराम नायक को आरएलपी से मैदान में उतार कर बीजेपी के वोट बैंक में सेंधमारी की तैयारी कर ली. यहां नायक समुदय बीजेपी का परंपरागत वोट बैंक माना जाता है. कांग्रेस ने दिवंगत विधायक मास्टर भंवरलाल के बेटे मनोज मेघवाल को टिकट दिया तो बीजेपी ने पूर्व मंत्री खेमाराम मेघवाल को. मेघवाल वसुंधरा राजे सरकार मे मंत्री रह चुके और चूरू सांसद राहुल कस्वां के नजदीकी माने जाते हैं.

सहाड़ा में बेनीवाल उठाया ये बड़ा कदम



सहाड़ा विधानसभा सीट के लिये 2018 के चुनाव में रूपलाल जाट बीजेपी के उम्मीदवार थे लेकिन वे तब चुनाव हार गए थे. रूपलाल इस बार भी बीजेपी से दावेदार थे लेकिन पार्टी ने उनको टिकट नहीं दिया. इस मौके का फायदा उठाने के लिये हनुमान बेनीवाल ने यहां रूपलाल के भाई बद्रीलाल जाट को अपनी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से सहाड़ा से मैदान में उतार दिया. इससे बीजेपी यहां भी उनके निशाने पर आ गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज